सरकार अपने वादे पर कायम रहेगी, POJK को भारत का अभिन्न हिस्सा बनाएगी-मंत्री जीतेंद्र सिंह

जम्मू: केंद्रीय मंत्री जीतेंद्र सिंह ने बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार अपने वादे पर कायम रहेगी और पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू-कश्मीर (POJK) को आजाद करके भारत का हिस्सा बनाएगी। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बारे में कोई सोच भी नहीं सकता था, लेकिन सरकार यह कर दिखाया। वैसे ही सरकार POJK को भारत का अभिन्न हिस्सा बनाएगी। प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री जीतेंद्र सिंह ने जम्मू दौरे पर यह बयान दिया। वे वहां के कठुआ जिले में महाराज गुलाब सिंह के 20 फीट ऊंचे स्टैच्यू का अनावरण करने गए थे।

POK को आजाद कराना सरकार की जिम्मेदारी है
जीतेंद्र सिंह ने कहा- ‘सरकार ने 1994 में एक रिजॉल्यूशन पास किया था, जिसमें इस बात पर जोर दिया गया कि पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर के जिस इलाके पर कब्जा कर रखा है, उसे उन्हें तुरंत खाली कर देना चाहिए। यह हमारी जिम्मेदारी है कि POJK को आजाद कराया जाए।’ जीतेंद्र सिंह ने कहा कि जब हमने आर्टिकल 370 हटाने के बारे में कहा था, तो यह बहुत लोगों की सोच से भी परे था। लेकिन भाजपा ने अपना वादा निभाते हुए इसे हटा दिया। ठीक ऐसे ही पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने 1980 में भविष्यवाणी की थी कि पार्टी यहां बहुमत से जीतेगी, यह भी किसी ने नहीं सोचा था।

पहले भी नेता दे चुके हैं POK को आजाद कराने के बयान
यह पहली बार नहीं है जब किसी भाजपा नेता ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के इलाके को आजाद कराने का वादा किया है। पिछले महीने रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लन ने कहा था कि सही समय आने पर POK भारत का हिस्सा बन जाएगा। इससे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि मोदी सरकार विकास कार्यों के दम पर जम्मू-कश्मीर का चेहरा ऐसे बदल देंगे कि POK के लोग भारत का हिस्सा बनने की मांग करने लगेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper