सरसों के तेल से 10 मिनट में दूर करें दांतो का पीलापन

चमकदार सफेद दांत किसी को भी अधिक आकर्षक और स्वस्थ बना सकते है बहुत से लोग सार्वजनिक रूप से मुस्कुराते हुए बचते हैं क्योंकि वे अपने दांतों के खराब रंगों के बारे में स्वयं-सचेत रहते हैं। दांत धीरे-धीरे बुढ़ापे, वंशानुगत कारक, खराब स्वच्छता, चाय या कॉफी, तम्बाकू और सिगरेट की अत्यधिक खपत के कारण पीले हो सकते हैं। इसके अलावा, एंटीबायोटिक दवाओं, जलवायु परिस्थितियों, संक्रमण और अनुचित चयापचय के उच्च खुराक दांतों को पीला करने करने के लिए जिम्मेदार होते हैं।

अक्सर लोग अपने दांतों से पीले रंग की पट्टी को हटाने के लिए पेशेवर उपचार की तलाश करते हैं, लेकिन इस तरह के उपचार के लिए समय लगता है और महंगा भी हो सकता है। यदि आप पीले दांतों से छुटकारा चाहते हैं, तो आप कुछ प्राकृतिक उपचारों की कोशिश कर सकते हैं। कई रसोई सामग्री है, जिससे आप सफेद मुस्कान दुबारा प्राप्त कर सकते हैं।

नमक और सरसो तेल
नमक मौलिक दंत सफाई एजेंटों में से एक है जो कि उम्र के लिए इस्तेमाल किया गया है। इसे दांतों में खोई खनिज सामग्री की भरपाई करने में मदद मिलती है और अपने सफेद रंग को फिर से जीवित करने में मदद करता है। आप नमक और सरसो तेल को मिला के एक मिश्रण तैयार करें फिर अपने दांतो पर लगाए और कम से कम 10 मिनट तक छोड़ दे और इस अंतराल में कुछ भी खाने-पिने से बचें। कुछ दिनों में आप देखेंगे कि आपके दांत दुबारा चमकने लगेंगे।

बेकिंग सोडा और सरसो तेल

बेकिंग सोडा सबसे अच्छी सामग्री में से एक है जिसे आप पीले दांतों से छुटकारा पाने के लिए उपयोग कर सकते हैं। यह पट्टिका को हटाने और दांतो की सफेद चमक को बनाने में मदद करेगा। और सरसो तेल बहुत ही उपयोगी है, ऐसे तो सरसो तेल के अनेक फायदे है और साथ ही आप इसका इस्तेमाल अपने दांतो को चमकाने के लिए भी कर सकते है। इसके लिए बस आपको 1 चमच्च सरसो तेल और बेकिंग सोडा चाहिए, दोनों को मिलाकर एक मिश्रण तैयार करें फिर अपने दांतो पर लगाए और कम से कम 10 मिनट तक छोड़ दे और इस अंतराल में कुछ भी खाना-पीना नहीं है। कुछ दिनों में आप देखेंगे कि आपके दांत दुबारा चमकने लगेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper