सलमान के पहले कई अभिनेता लगा चुके हैं कोर्ट का चक्कर

मुंबई: लोकप्रियता और शोहरत लोगों को जिम्मेदार बनाती है,लेकिन मायानगरी के कुछ सितारे हैं जिन्होंने कभी न कभी अपनी प्रतिष्ठा को धूमिल किया। इनमें कुछ ने अपनी भूल स्वीकारी लेकिन कुछ ने कानून ठेंगा दिखा दिया। इन्हीं कुछ अभिनेताओं के बारे में आज हम आपकों विस्तारपूर्वक बात रहे है।

दिसंबर 1993 में डायलाग डिलीवरी के बेताज बादशाह राजकुमार के बेटे पुरू ने बांद्रा इलाके में अपनी कार से कुचल कर दो लोगों की जान ले ली, दो अन्य घायल हुए। पीड़ित परिवारों को तीस-तीस हजार रुपये चुका कर मामले को रफा दफा किया गया। इसके साथ ही आदित्य पंचोली पर जुलाई 1999 में सांताक्रूज इलाके में रात को गश्त करते समय दो पुलिस वालों को कार से घायल किया।

950 रुपये अर्थ दंड देना पड़ा। बालीवुड में बाइक के शौकीन माचोमैन जान अब्राहम ने अप्रैल 2006 में मुंबई के खार इलाके में अपनी मोटरबाइक से 2 पैदल यात्रियों को घायल किया। खुद ही उनको अस्पताल पहुंचाया। 950 रुपये आर्थिक दंड चुकाना पड़ा। यहीं नहीं क्रिकेटर मंसूर अली पटौदी को जून 2005 में हरियाणा के झज्जर में एक काले हिरण और दो खरगोश का शिकार किया। आरोप में जेल जाना पड़ा।

मुन्ना भाई संजय दत्त को 1993 में मुंबई बम विस्फोट की साजिश रचने, हथियार रखने सहित कुल पांच आरोप लगे। चार में बरी हुए। आम्र्स एक्ट के तहत दोषी करार। पांच साल कैद की सजा पूरी करके फरवरी, 2016 में बाहर आए। वहीं फरदीन खान 5 मई 2001 को फिरोज खान के अभिनेता पुत्र फरदीन खान को कोकीन खरीदते हुए पकड़ा गया। 2011 में कोर्ट ने मामले को रफा-दफा कर दिया, क्योंकि उन्होंने एक ग्राम से भी कोकीन का सेवन किया था।

महानायक बिग बी के लाड़ले अभिषेक बच्चन को 2001 में दिल्ली में फिल्म ‘बस इतना सा ख्वाब है’ की शूटिंग के दौरान एक फोटोग्राफर से झड़प में कैमरा तोड़ दिया। मामला अदालत तक गया। इसके बाद में अमिताभ बच्चन ने माफी भी मांगी। इन सितारों के अलावा मशहूर धुनें बनाने वाली नदीम-श्रवण की जोड़ी टूट गयी जब गुलशन कुमार हत्याकांड में आरोपी नदीम ने विदेश में शरण ली।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper