भाजपा के प्रदेश कार्यालय का सहकारी कर्मचारियों ने किया घेराव, लाठी चार्ज

लखनऊ ब्यूरो। प्रदेश की राजधानी में भाजपा के प्रदेश मुख्यालय का सहकारी कर्मचारियों ने घेराव किया। प्रशासन की ओर से कर्मचारियों को भाजपा मुख्यालय में प्रवेश करने से रोकने को बैरिकेडिंग लगा दी गई। वहीं कर्मचारियों के प्रदर्शन के कारण से विधानसभा मार्ग और नगर निगम मार्ग पर बेहद जाम की स्थिति बन गयी। दोपहर बाद पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे कर्मचारियों पर हल्की बल प्रयोग कर भगा दिया, उसके बाद प्रदर्शन समाप्त हो गया है।

बापू भवन चौराहा स्थित उत्तर प्रदेश सहकारी बैंक के निकट गुरुवार को प्रदेश के कोने—कोने से हजारों की संख्या में सहकारी कर्मचारी जुटे। सहकारी कर्मचारियों ने अपनी वेतन वृद्धि, बोनस की मांग, एरियर सम्बन्धी मांगों को लेकर प्रदर्शन किया। इसके बाद कर्मचारी नेताओं के आह्वान पर प्रदर्शनकारी पहले विधानसभा के घेराव के लिए बढ़े और बाद में भारी संख्या में भाजपा के प्रदेश मुख्यालय तक पहुंच गए। इसको देखते हुए कर्मचारियों को रोकने के लिए बैरिकेडिंग लगा दी गई।

संयुक्त सहकारी समिति कर्मचारी समन्वय समिति के नेताओं सुरेंद्र यादव, ओमवीर सिंह, आनन्द स्वरुप ने कहा कि प्रदेश में आयी भाजपा की सरकार ने आने से पहले बड़े—बड़े वादे किये और उसको छह माह में पूरा करने का दावा किया। प्रदेश सरकार के सहकारिता मंत्री से लेकर अधिकारियों तक कर्मचारी सभी से मांगों को लेकर वार्ता कर चुके हैं। सरकार के एक वर्ष से ज्यादा का समय बीत चुका है और सहकारी कर्मचारी खुद को ठगा हुआ महसूस कर रहा है।

उन्होंने कहा कि आज पूरे प्रदेश में सहकारी कार्यालय में कामकाज ठप हैं और कर्मचारी सड़क पर उतर आया है। प्रदेश के प्रमुख जिलों की समिति सदस्यों व पदाधिकारी लखनऊ में प्रदर्शन कर रहे हैं। भविष्य निधि, कर्मचारी बीमा, पुरानी पेंशन, वेतन में वृद्धि, एरियर, बोनस जैसी मांगों को लेकर प्रदर्शन किया जा रहा है। हमारी मांग है कि प्रदेश सरकार के मुखिया सहका​री कर्मचारियों से बातचीत कर मांगों को सुने और पूरा करें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper