सांसदों के निलंबन को लेकर राज्यसभा में हंगामा जारी, निलंबन रद्द करने को लेकर नहीं माने सभापति

नई दिल्ली: संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत के साथ ही पहले दिन विपक्ष के 12 सांसदों को निलंबित कर दिया गया। जिसको लेकर आज राज्यसभा में भारी हंगामा हुआ। कांग्रेस के राज्यसभा सांसद मलिकार्जुन खरगे ने संसद में निलंबित विधायकों का मुद्दा उठाते हुए कहा कि कार्यवाही नियमों के खिलाफ हुई है साथ ही उन्होंने निलंबन वापस लेने का अनुरोध है।

वहीं राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने सांसदों के निलंबन को रद्द करने से मना कर दिया। हालांकि इस मुद्दे पर आगे रणनीति तय करने के लिए विपक्ष की ओर से एक बैठक का आवाहन किया गया जिसमें कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और आम आदमी पार्टी के नेता शामिल होंगे। वही जानकारी के मुताबिक अगर सरकार सांसदों का निलंबन वापस नहीं लेती है तो विपक्ष इस पूरे शीतकालीन सत्र का बहिष्कार कर सकती है।

आपको बता दें संसद के मानसून सत्र के दौरान इन सांसदों ने अशोभनीय आचरण किया था। यानी संसद के अंदर तोड़फोड़, पेपर फेंकना, टेबल पर चढ़ना, डांस करना और मार्शल के साथ अभद्र व्यवहार करने का आरोप है। राज्यसभा सभापति एम वेंकैया नायडू ने 12 सांसदों के निलंबन को रद्द करने के अनुरोध को खारिज करते हुए। कहा कि राज्य के सभापति को कार्यवाही करने का अधिकार है और सदन को भी कार्यवाही का अधिकार है। सभापति ने आगे कहा कि पिछले मानसून सत्र में कुछ कड़वे अनुभव है। जो आज भी हम में से अधिकांश लोगों को परेशान करते हैं।

लोकसभा की कार्यवाही 2:00 बजे तक स्थगित
विपक्षी दल कांग्रेस, डीएमके, नेशनल कॉन्फ्रेंस किस सदन से वर्कआउट करने के बाद लोकसभा की कार्यवाही को 2:00 बजे तक स्थगित कर दिया गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper