साल का आखिरी सूर्य ग्रहण 11 को, दोपहर 1.32 बजे से शुरू होकर शाम 5 बजे होगा खत्म

वर्ष 2018 का तीसरा और आखिरी सूर्य ग्रहण इसी महीने लगेगा। यह ग्रहण 11 अगस्त की दोपहर 1.32 बजे से शुरू होकर शाम 5 बजे खत्म होगा। इस ग्रहण का प्रभाव आंशिक होगा। यह भारत में नहीं दिखाई देगा। इसे नॉर्थ अमेरिका, नॉर्थ पश्चिमी एशिया, साउथ कोरिया, मास्को और चीन जैसे कई देशों में देखा जा सकेगा।

सूर्य ग्रहण के संबध में ज्यातिषाचार्य पं. प्रदीप जोशी के अनुसार भारत में इस सूर्य ग्रहण का सूतक काल 12 घंटे पहले ही यानी 10 अगस्त को ही लग जाएगा। सूतक लगने का समय 10 अगस्त देर रात 1 बजकर 32 मिनट से आरम्भ होगा। भारत में इसके ना दिखने की वजह से सूतक काल का प्रभाव भी ना के बराबर ही माना जाएगा। बावजूद इसके ग्रहण काल में भारत के सभी मंदिरों के कपाट बंद रहेंगे।

भारतीय मान्यता के अनुसार ग्रहण के पहले या बाद में राहु का दुष्प्रभाव रहता है इसलिए मंदिरों के कपाट बंद रहते हैं। ग्रहण की समाप्ति पर भगवान की मूर्ती को स्नान करवाया जाता है और आरती के बाद मंदिर के कपाट आम लोगों के लिए खोल दिए जाते हैं। विदिता हो कि इससे पहले सूर्य ग्रहण 15 फरवरी और 13 जुलाई को लगा था। बताया जा रहा है कि साल 2019 में भी तीन सूर्य ग्रहण देखने को मिलेंगे। पहला 6 जनवरी को, दूसरा 2 जुलाई को और तीसरा 26 अगस्त को पड़ेगा।

पं. प्रदीप जोशी के अनुसार ग्रहण की समाप्ति पर स्नान करवा आवश्यक बताया गया है। मंदिर में मौजूद सभी भगवानों की मूर्तियों को भी नहलाना चाहिए। ग्रहण का सूतक काल आरम्भ होने से पूर्व घर में रखे खाद्य पदार्थों में तुलसी या कुशा का तिनका डालना चाहिए। ऐसा करने से खाद्य पदार्थ ग्रहण के पश्चात भी भक्षण योग्य रहते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper