साल का दूसरा सूर्यग्रहण कल, 44 साल में पहली बार बनेगा एेसा संयोग

नई दिल्ली: शुक्रवार 13 जुलाई को साल 2018 का दूसरा सूर्यग्रहण होने वाला है। हालांकि, इस ग्रहण के दीदार ज्यादा लोग नहीं कर पाएंगे लेकिन यह ग्रहण कुछ मायनों में दूसरे सूर्यग्रहण से अलग है। दरअसल, यह सूर्यग्रहण 13 जुलाई को लगेगा और इस दिन शुक्रवार है। इस 13 तारीख और शुक्रवार के मेल को लोकप्रिय संस्कृति में ‘बुरी किस्मत’ का सूचक माना जाता है। इस दिन और तारीख को 44 साल पहले ग्रहण लगा था।

यह सूर्यग्रहण 2 घंटे 25 मिनट तक रहेगा। 13 जुलाई के बाद फिर 11 अगस्त को तीसरा सूर्यग्रहण पड़ेगा। 13 जुलाई को पड़ने वाले इस ग्रहण का समय सुबह 7 बजे से शुरू होकर 9 बजकर 44 मिनट में खत्‍म होगा। वहीं, ग्रहणकाल का सूतक लगभग 12 घंटे पहले लगेगा। हर बार इस ग्रहण के दौरान भी कुछ सावधानियां बरतनी जरूरी हैं, ताकि किसी भी नुकसान से बचा जा सके, लेकिन इससे पहले जानें कि आखिर सूर्य ग्रहण है क्या।

13 दिसंबर 1974 के बाद से अब तक कोई भी सूर्यग्रहण ऐसा नहीं रहा। अब शुक्रवार और 13 तारीख के मेल वाला यह सूर्यग्रहण 13 सितंबर 2080 में लगेगा। यह सूर्यग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा। यह सूर्यग्रहण आस्ट्रेलिया के सुदूर दक्षिणी भागों, तस्मानिया, न्यूजीलैंड के स्टीवर्ट आइलैंड, अंटार्कटिका के उत्तरी हिस्से, प्रशांत और हिंद महासागर में देखा जा सकेगा। ग्रहण सुबह 7 बजकर 18 मिनट पर शुरू होगा और 2 घंटे 25 मिनट तक रहेगा।

सूर्यग्रहण का इन रा‌शियों पर पड़ेगा प्रभाव

यह ग्रहण पुनर्वसु नक्षत्र और हर्षण योग में होगा। ग्रहण भारतीय समयानुसार 13 जुलाई की सुबह से कर्क लग्न और मिथुन राशि में लगेगा। ग्रहण के दौरान मिथुन राशि में सूर्य और चंद्रमा दोनों रहेंगे। इस बार सूर्य ग्रहण 5 राशियों के लिए बहुत भाग्यशाली रहने वाला होगा।

मेष राशि- ग्रहण इस राशि को जातकों के लिए ढे़र सारी खुशियां लाएगा। आर्थिक संपन्नता के योग बन रहे है। वैवाहिक जीवन में सुधार होगा। अचानक कहीं से धन लाभ होने के संकेत है।

मिथुन राशि- यात्रा का योग बन रहा है। शुभ समाचार मिल सकता है। लंबे समय से चली आ रही परेशानियों का अंत होने वाला है। नौकरी में प्रमोशन मिलने के साफ संकेत दिखाई दे रहे हैं।

तुला राशि- ग्रहण का तुला राशि वालों के लिए सबसे ज्यादा फायदा मिलने के संकेत है। आर्थिक मुनाफे के योग भी बन रहा है। परिवार में खुशीपूर्वक जीवन बीतेगा।

मकर राशि- काम में सफलता मिलने के योग है। बिगड़े हुए काम बनने लगेंगे। सामाजिक मान-प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। अच्छी नौकरी के कई अवसर मिल सकते हैं।

सिंह राशि- माता लक्ष्मी की विशेष कृपा सिंह राशि वालों को मिलने वाली है। समाज में मान-सम्मान में वृद्धि होगी । कानूनी मसलों में सफलता प्राप्त होगी जिससे आपको धन लाभ होगा।

क्या होता है सूर्य ग्रहण?

पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमने के साथ-साथ अपने सौरमंडल के सूर्य के चारों ओर भी चक्कर लगाती है. दूसरी ओर, चंद्रमा दरअसल पृथ्वी का उपग्रह है और उसके चक्कर लगता है, इसलिए, जब भी चंद्रमा चक्कर काटते-काटते सूर्य और पृथ्वी के बीच आ जाता है, तब पृथ्वी पर सूर्य आंशिक या पूर्ण रूप से दिखना बंद हो जाता है. इसी घटना को सूर्य ग्रहण कहा जाता है।

सूर्यग्रहण के वक्त ना करें ये काम

सूर्यग्रहण कभी भी नंगी आंखों से डायरेक्ट ना देखें. इससे आपकी आंखें डैमेज हो सकती है।

सूर्यग्रहण का नजारा देखने के लिए एक जगह पर सीधे खड़े हो जाएं और आंखों को ग्लास या सोलर व्यूवर से जरूर ढक लें. सूर्य से नजर हटाने के बाद सोलर फिल्टर /व्यूवर को जरूर हटाएं। सोलर फिल्टर वाले चश्मों को सोलर-व्युइंग ग्लासेस, पर्सनल सोलर फिल्टर्स या आइक्लिप्स ग्लासेस भी कहा जाता है।
आपके नॉर्मल चश्मे या गॉगल्स आंखों को यूवी रेज़ से सुरक्षित नहीं रख सकते. इसीलिए अपने ग्लासेस से सूर्यग्रहण देखने की कोशिश ना करें।
अगर आपके पास आंखों को बचाने के लिए कुछ भी ना हो तो सूर्यग्रहण के दौरान पीठ करके चलें।
सूर्यग्रहण के दौरान सूरज को पिनहोल, टेलेस्कोप या फिर दूरबीन से भी ना देखें।
अनफिल्टर्ड कैमरे से कभी भी सूर्यग्रहण की तस्वीरें न उतारें और न ही ऐसी कोई दूसरे डिवाइस का इस्तेमाल करें।
बहुत लोग सोलर फिल्टर लगाकर कैमरे से तस्वीर उतारते हैं, इसका असर भी आंखों के लिए खतरनाक हो जाता है। दरअसल कैमरे के लेंस और सोलर फिल्टर मिलकर किरणों को और तीव्र बना देती हैं जो हमारी आंखों को नुकसान पहुंचा देती हैं।
अगर आप नजर के चश्मे का इस्तेमाल करते हैं तो भी उसको ऊपर सोलर फिल्टर या इकलिप्स ग्लास जरूर पहनें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper