सावधान! फेसबुक यूजर्स का डाटा अभी भी सुरक्षित नहीं

नई दिल्ली: ब्रिटिश परामर्शदाता कंपनी कैंब्रिज एनलिटिका के इन दावों के बावजूद कि उसने 5.5 करोड़ फेसबुक उपभोक्ताओं के डेटा डिलीट कर दिए हैं, डेटा का बहुत बड़ा भाग अभी भी नियंत्रण से बाहर है। ब्रिटेन के एक समाचर चैनल के मुताबिक, कैंब्रिज एनलिटिका के एक सूत्र के विवरण से अमेरिका के कोलोराडो राज्य के 136 हजार लोगों के डेटा हर व्यक्ति के व्यक्तित्व और मनोवैज्ञानिक प्रोफाइल के साथ गुप्त जगह पर हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है, कैंब्रिज एनलिटिका द्वारा डेटा का इस्तेमाल आसानी से प्रभावित होने वाले निवासियों को विशेष संदेश देने के लिए किया गया। इससे पहले कैंब्रिज एनलिटिका ने दावा किया था कि उसने पब्लिक डोमेन से डेटा को खत्म कर दिया है। कंपनी ने उपभोक्ताओं का डेटा एक फेसबुक ऐप से सालों पहले प्राप्त किया था, जिसे तथाकथित तौर पर एक मनोवैज्ञानिक शोध उपकरण बताया गया था। हालांकि, कंपनी उस सूचना के लिए अधिकृत नहीं थी।

कैंब्रिज एनलिटिका पर ब्रिटेन के 2016 के ब्रेक्सिट जनमत संग्रह और 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों के परिणाम पर असर डालने का आरोप है। अमेरिकी चुनाव परिणाम पर असर की वजह से डोनाल्ड ट्रंप व्हाइट हाउस पहुंच गए। ब्रिटिश संसद के सामने हाल में अपनी उपस्थिति के दौरान कैंब्रिज एनलिटिका के पूर्व प्रोग्रामर क्रिस्टोफर वाइली ने यह कहकर स्तब्ध कर दिया कि निसंदेह उनके पूर्व नियोक्ता ने ब्रेक्सिट जनमत संग्रह और 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में गड़बड़ी की और कानून को तोड़ा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper