सावन में किसी भी दिन नंदी के कान में चुपके से बोल दें ये 2 शब्द, जो सोचा है वो जरूर होगा पूरा

सावन के पवित्र महीने में हर कोई भोलेनाथ को खुश करने में लगा है, एक तरफ सड़कों पर कांवाड़ियों द्वारा भोलेनाथ के जायकारों की गूंज सुनाई दे रही है, तो दूसरी तरफ लोग मंदिरों में भीड़ लगाकर शिव के दर्शन कर रहे हैं. मंदिरों में सबसे खास बात तो ये है कि दूध, जल, बेलपत्र के अलावा लोग शिव की नंदी के कान में कुछ कहते दिख रहे हैं. कहा जाता है कि सावन के दिनों में नंदी के कान में दो शब्द बोलने से व्यक्ति की मनोकामना जरूर पूरी होती है, लेकिन जानिए तो आखिर नंदी के कान में वो कौन-से शुभ 2 शब्द बोले जाते हैं?

देवो के देव महादेव की जिस व्यक्ति पर एक बार कृपा हो जाती है उसका कोई बाल-बांका भी नहीं बिगाड़ सकता है. वहीं भोलेनाथ के साथ पार्वती और नंदी की पूजा भी विशेष माना जाती है और इन सब से पहले शिव पुत्र गणेश की पूजा करना शुभ होता है. जिस तरह से पार्वती ने सावन में व्रत रखकर शिवजी को पाया था उसी तरह से कुंवारी लड़कियां सावन का व्रत रखकर मनचाह वर प्राप्त कर सकती हैं. ऐसे में सावन के दिनों में पूजा के वक्त खास ध्यान देना होता है.

पहले पूर्व प्रेमिका की बेरहमी से की हत्या, फिर फ्राई कर खा गया भेजा

शिवजी ने नंदी को भी वरदान दिया था कि जो कोई व्यक्ति तुम्हारे कान में अपनी मनोकामना बोलेगा, उसकी इच्छा जरूर पूरी होगी. भगवान शिव जी नंदी महाराज की पीठ पर बैठकर तीनों लोको का भ्रमण करते हैं, ऐसे में शिव जी की पूजा के वक्त नंदी का पूजा करना बहुत जरूरी होती है. शिवलिंग पर जल अभिषेक करें, दूध चढ़ाये और बेलपत्र चढ़ाएं उसके बाद शिव जी की आरती के बाद नंदी के पास दीपक जलाएं और बिना किसी से बातचीज किये चुपचाप से नंदी के नाम में अपनी मनोकामना बोल दें.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper