सास की जीते जी सभी इच्छाएं पूरी की और मौत के बाद बहू ने दिया अर्थी को कंधा

सूरत: माता या पिता के मौत के बाद उनकी अर्थी को बेटियों द्वारा कंधा देने की कई घटनाएं सुनी या देखी होंगी| सूरत में एक बहु ने अपनी सास की जीते जी न सिर्फ उनकी सभी इच्छाएं पूर्ण की बल्कि मौत के बाद उनकी अर्थी को कंधा देकर समाज को एक नई राह दिखाई है|

सूरत के अडाजण क्षेत्र के अर्चन एपार्टमेन्ट निवासी मिनाक्षी बलवंतभाई मिस्त्री एक कंपनी में बतौर आर्थिक सलाहकार सेवारत हैं| मिनाक्षी के पति बलवंतभाई मिस्त्री पेशे से डॉक्टर हैं| मिनाक्षी मिस्त्री के अपनी सास धनकुंवर मिस्त्री के साथ संबंध ऐसे थे जैसे किसी मां-बेटी के होते हैं| मिनाक्षी मिस्त्री अपनी सास से मां से कहीं अधिक प्यार करती थीं और उनकी सभी इच्छाओं को पूरी करने में कोई कसर नहीं छोड़ी| इतना ही नहीं सास की मौत के बाद मिनाक्षी ने एक बेटी बनकर उनकी अर्थी को कंधा देकर समाज को नई राह दिखाई है|

मिनाक्षी का कहना है कि सास धनकुंवर मिस्त्री उनके काफी करीब थीं और इसी लिए देवर अश्विन मिस्त्री के साथ मैंने भी उनकी अर्थी को कंधा दिया| मिनाक्षी मिस्त्री का मानना है कि व्यक्ति के जीते जी उसकी इच्छा पूरी करने का प्रयास करना चाहिए| उसकी मौत के बाद ना ना प्रकार की विधि के नाम पर खर्च से बचना चाहिए| मिनाक्षी ने बताया कि जीते जी उनकी सास जो कुछ मांगा वह उन्हें उपलब्ध कराई है| उन्होंने पहले ही कह दिया था कि मौत के बाद अंतिम संस्कार के बाद कोई विधि नहीं की जाए|

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper