सिर्फ 4 दिन में मालामाल हो गए शिरडी के साईं

शिरडी: शिरडी के साईं बाबा सिर्फ 4 दिनों में मालामाल बन गए। भक्तों ने बाबा को दिल खोलकर दान दिया जिससे साईं का खजाना भर गया। साईं के चरणो में रुपये डॉलर, पाउंड और दीनार की बरसात हो गई। भक्तों की दरियादिली से सिर्फ चार दिन में साईं के दरबार में करीब साढ़े पांच करोड़ का चढ़ावा चढ़ा। पिछले साल के मुकाबले इस साल करीब डेढ़ करोड़ रुपये का दान ज्यादा आया।

मंदिर प्रशासन का दावा है कि इन चार दिनों में शिरडी के साईं को इस बार करीब साढ़े 5 करोड़ का चढ़ावा चढ़ाया गया। करीब 3 करोड़ 10 लाख रुपये का चढ़ावा चढ़ा था जबकि करीब एक करोड़ रुपये का दान काउंटर पर दिया गया था। साईं के श्रद्धालुओं ने डेबिट कार्ड से करीब 38 लाख रुपये का दान दिया, 10 लाख रुपये ऑनलाइन भेजे गए जबकि 25 लाख रुपये चेक और डीडी से दी गई। इतना ही नहीं इस बार विदेशी भक्तों ने भी बढ़ चढ़कर बाबा के दरबार में भेंट दी।

मंदिर प्रशासन के मुताबिक करीब 12 लाख 42 हजार रुपये का विदेशी चंदा भी जमा हुआ है जो अमेरिका, ब्रिटेन, सिंगापुर, सऊदी अरब और कनाडा से आया है। भक्तों ने 781 ग्राम सोने के आभूषण और करीब साढ़े सात किलो चांदी भी दान की। जिसकी कीमत करीब 25 लाख रुपये बताई जा रही है। मंदिर प्रशासन का दावा है कि भक्तों की दरियादिली की वजह से इस बार पिछले साल के मुकाबले करीब डेढ़ करोड़ रुपये का ज्यादा चढ़ावा चढ़ा। क्योंकि पिछले साल ठीक इसी वक्त में भक्तों ने बाबा को करीब चार करोड़ का दान दिया था। आपको बता दें कि भक्तों की साईं बाबा पर अटूट आस्था है।

उनका मानना है कि साईं के नाम का जप करने से सारे बिगड़े काम बन जाते हैं। बाबा अपने भक्तों की हर कठिनाइयों को हर लेते हैं जो भी सच्चे मन से साईं को याद करता है वो मालामाल हो जाता है। शायद यही वजह है कि श्रद्धालु भी बाबा पर अपनी दौलत लुटाने से पीछे नहीं हटते.. और जब भी मौका मिलता है साईं के खजाने को नोट और सोने-चांदी से भर देते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper