सिर्फ 50 हजार में शुरू करें ये बिजनेस, हर महीने होगी मोटी कमाई, ये है तरीका

छोटे निवेश के साथ शुरू किए बिजनेस में नुकसान होने की संभावनाएं कम होती है. साथ ही मुनाफा पहले महीने से ही मिलना शुरू हो जाता है. अगर आप भी बिजनेस करने की सोच रहे हैं, लेकिन निवेश छोटा ही करना चाहते हैं तो आपके लिए एक शानदार बिजनेस है. स्मॉल स्केल पर शुरू करके इस कारोबार में मोटा मुनाफा कमाया जा सकता है. शुरुआती निवेश सिर्फ 50 हजार रुपए है और कमाई 30 हजार रुपए महीना.

पैकर्स एंड मूवर्स की बढ़ी डिमांड
बढ़ते औद्योगीकरण और शहरों की बढ़ती आबादी के बीच पैकर्स एंड मूवर्स (packers and movers) की पिछले कुछ सालों में तेजी से डिमांड बढ़ी है. दरअसल, आज के दौर में हर आदमी अपने सामान की सेफ्टी के साथ ही कम सिरदर्द चाहता है. यदि आप मकान बदल रहे हैं तो आपको भी पैकर्स एंड मूवर्स की तलाश रहती है. वहीं, ऑफिस या कंपनी शिफ्ट करने के लिए इसकी जरूरत होती है. सामान की सुरक्षा के लिहाज से पिछले कुछ सालों में यह धंधा हिट रहा है.

इंश्योर्ड होता है सामान
दिल्ली-एनसीआर में बहुत तेजी से डिमांड बढ़ी है. खासतौर रजिडेंशियल के लिए लोग पैकर्स एंड मूवर्स को ही हायर करते हैं. नोएडा स्थित एक पैकर्स एंड मूवर्स कंपनी के मनोज कुमार बताते हैं कि महंगे सामान को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने में इसके टूटने की आशंका रहती है. लेकिन, पैकर्स एंड मूवर्स कंपनियां इन सामानों का इंश्योरेंस कराकर एक जगह से दूसरी जगह सेफ्टी के साथ ले जाती हैं. ऐसे में ग्राहक को भी चिंता नहीं रहती और उनका सामान भी सही रहता है.

कैसे शुरू करें बिजनेस?
इस बिजनेस को शुरू करने के लिए आपको पूरे प्लान के साथ काम करने की जरूरत है. चूंकि आप छोटे लेवल पर शुरू कर रहे हैं इसलिए ज्यादा इंफ्रास्ट्रक्चर की जरूरत नहीं है.

क्या-क्या चाहिए?

  • बिजनेस को प्रोपराइटर, पार्टनरशिप या कंपनी फार्मेट में शुरू कर सकते हैं. सबसे पहले रजिस्ट्रेशन करा लें.
  • कंपनी का PAN बनवाकर अपने नजदीकी बैंक अकाउंट में करंट खाता खुलवा लें.
  • दूसरे चरण में रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी कर ट्रेड मार्क आदि के नाम का चयन कर लें.
  • इसके बाद डोमेन नाम तलाश कर अपनी वेबसाइट बना लें. अब आधार MSME रजिस्ट्रेशन करा लें.
  • यह सर्विस आधारित बिजनेस है. इसलिए सर्विस टैक्स रजिस्ट्रेशन अवश्य कराएं. हालांकि, आप GST के अंडर टैक्स फाइल कर सकते हैं.
  • अब एक छोटा सा ऑफिस बना लें. इस ऑफिस को आप अपने घर में भी बना सकते हैं.
  • अंत में आप अपने मोबाइल नंबर के आधार पर डिजीटल बिजनेस वेबसाइट जैसे जस्ट डायल और सुलेखा.कॉम पर रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं. इन वेबसाइट्स के माध्यम से ही आपको बिजनेस में मदद मिलती है.

कैसे मिलेगा बिजनेस?
डिजीटल बिजनेस वेबसाइट पर आपका 3 से 4 हजार रुपए में रजिस्ट्रेशन हो जाएगा. ग्राहक को जब पैकर्स एंड मूवर्स की जरूरत होती है तो वह नेट पर सर्च करता है और अपना जानकारी वहां पर दर्ज करता है. डिजीटल बिजनेस वेबसाइट की तरफ से कस्टमर की डिटेल आपको भेज दी जाएगी. जिसके बाद आप कस्टमर से बात कर अपनी डील क्लोज कर सकते हैं.

इन चीजों की होगी जरुरत
काम शुरू करने के लिए आपको पैकिंग कॉटूर्न, पैकिंग पेपर, टेप, रस्सी और कुछ औजारों की जरूरत पड़ेगी. इस काम में जरूरत के हिसाब से बड़ी या छोटी चार पहिया गाड़ी की भी जरूरत होती है. इसके लिए आप किसी ट्रांसपोर्ट कंपनी से संपर्क कर सकते हैं. आपके काम के एवज में वो आपसे पैसे लेंगे. साथ ही लेवर की भी जरूरत पड़ती है. लेवर का रेट शहर के अनुसार अलग-अलग हो सकते हैं.

क्या करना होगा?
उदाहरण के लिए एक ग्राहक के घर का सामान शिफ्ट करने के लिए आपने 10 हजार रुपए का ठेका लिया. सामान शिफ्ट होने के बाद इसमें से 2 हजार रुपए आपसे गाड़ी वाला ले जाएगा. सामान की पैकिंग आदि के लिए आपको लेवर की जरूरत पड़ेगी. लेवर का खर्च करीब 3 हजार रुपए आएगा. बीमा और अन्य खर्च करीब 2 हजार रुपए आएगा. इस तरह 10 हजार में से आपने 7 हजार रुपए सामन की शिफ्टिंग पर खर्च किए. बचे तीन हजार रुपये आपका नेट प्राफिट होगा. इस तरह आप महीने में 10 काम भी करते हैं तो बड़ी आसानी से आप 30 हजार रुपए या इससे ज्यादा कमाई भी कर सकते हैं.

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper