सीएए के ‎विरोध में कन्हैया भूले राष्ट्रगान, गलती का अहसास होने पर हुए शर्मिंदा

पटना: जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष और सीपीआई (सीपीआई) नेता कन्हैया कुमार ने पटना में हुई संविधान बचाओ, नागरिकता बचाओ महारैली में कुछ ऐसा कर दिया कि सबके सामने हंसी का पात्र बनकर रह गए। दरअसल, कन्हैया की रैली में जब राष्ट्रगान गाया गया, तब उन्होंने अंतिम दो लाइन में जन गण मंगल के बदले जन मन गण गा दिया। हालांकि बाद में उन्‍होंने अपनी इस गलती का अहसास हुआ। इसके बाद उन्‍होंने राष्‍ट्रगान को पूरा गाया।

अपने भाषण की शुरुआत करने से पहले कन्हैया कुमार ने गांधी मैदान में मौजूद लोगों से खड़े होकर राष्ट्रगान गाने की अपील की और फिर राष्ट्रगान शुरू किया लेकिन राष्ट्रगान गाते समय कन्हैया कुमार ने अंतिम दो लाइन में जन गण मंगल के बदले जन मन गण गा दिया। गलती का अहसास होने पर दोबारा राष्ट्रगान गाया गया। इस वाकये के बाद लोगों ने उन्हें सोशल मीडिया पर ट्रोल करना शुरू कर दिया है।

गौरतलब है ‎कि पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में गुरुवार को एनपीआर-एनआरसी-सीएए विरोधी संघर्ष मोर्चा की ‘संविधान बचाओ नागरिकता बचाओ’ महारैली का आयोजन किया गया था। इसमें जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष व सीपीआई नेता कन्हैया के अलावा वाम विचारों से जुड़ी और भी कई हस्तियां शामिल हुई थीं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper