सीएम आवास योजना का लाभ चाहिए, तो ये जानें

लखनऊ. द लखनऊ ट्रिब्यून। उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) का लाभ चाहते, तो ये उन्हीं को मिलेंगे जो इसके लिए तय मानक को पूरा करेंगे। इस सिलसिले में ग्राम्य विकास विभाग ने पहल शुरू कर भी दी है। सीएम आवास योजना का लाभ उन्हें ही मिलेगा जो पीएम आवास योजना से लाभान्वित नहीं हैं।

लाभार्थियों के चयन में वरीयता उन्हें मिलेगी जो प्राकृतिक आपदा, कालाजार प्रभावित हैं या फिर वनटांगिया और मुसहर समुदाय से हैं। इस योजना में जो लाभार्थी चयनित होंगे उनके लिए आवास बनाने का काम अप्रैल में शुरू हो जाएगा। लाभार्थियों के लिए चयन के मानक तय कर दिये गये हैं। अनुसूचित जाति व जनजाति के लाभार्थियों के लिए भी पात्रता क्रम का निर्धारण किया गया है। इसके तहत सैन्य कार्यवाही के दौरान शहीद सैनिक व अर्धसैनिक बलों के कर्मचारियों की विधवाएं/परिवार, अनुसूचित जाति, जनजाति के ऐसे परिवार जिनकी मुखिया विधवाएं अथवा एकल अविवाहित महिलाएं हों, दिव्यांग (शारीरिक एवं मानसिक), भूकंप, चक्रवात, आग अथवा अन्य प्राकृतिक आपदाओं के साथ ही दंगा पीड़ित या भूमि अर्जन के फलस्वरूप आवास विहीन हुए अनुसूचित जाति/जनजाति के परिवार पात्रता सूची में शामिल किए जाएंगे।

सामान्य व अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए पात्रता में सैन्य कार्यवाही के दौरान शहीद हुए रक्षा सैनिक व अर्धसैनिक बलों के कर्मचारियों की विधवाएं/ परिवार व ऐसे परिवार जिनकी मुखिया विधवाएं अथवा एकल अविवाहित महिलाएं हों, दिव्यांग, भूकंप, चक्रवात, आग अथवा अन्य प्राकृतिक आपदाओं तथा दंगा पीड़ित या भूमिअर्जन के फलस्वरूप आवास विहीन हुए परिवार योजना के लाभार्थी के तौर पर शामिल हैं। इनके अलावा बेघर, बेसहारा, भीख मांगकर जीवनयापन करने वाले परिवार, हाथ से मैला ढोने वाले, आदिम जनजाति समूह स्वत: ही पात्रता सूची में शामिल होंगे।

 

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper