सीताजी द्वारा रावण को बताई गई ये 5 भविष्यवाणियां आज कलियुग में भी सच हो रही हैं

रामायण की हर कहानी के बारे में लोग भली-भांति जानते हैं। रामायण से हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता है। ऐसे कई अवसर हैं जिनमें मानव जीवन को दंडित किया जा रहा है। रामायण में ऐसी कई बातें कही गई हैं जो मानव जीवन को सुखमय बना सकती हैं। आज हम आपको रामायण में माता सीता द्वारा बताई गई 5 भविष्यवाणियों के बारे में बताएंगे, जो आज के युग में भी सच साबित हो रही हैं।

माता सीताजी ने सबसे पहले रावण को भविष्यवाणी की थी कि जो पुरुष किसी महिला को नीचा देखता है और उसकी इच्छा के विरुद्ध उसे छूने की कोशिश करता है, वह सबसे दुष्ट और पापी पुरुष है। उसे अपने जीवन में पाप के लिए दंडित किया जाना चाहिए। ऐसे व्यक्ति को नर्क में भी जगह नहीं मिलती। दूसरे, माता सीताजी ने रावण से कहा कि उसका धन और अहंकार का बल किसी काम का नहीं होगा। जब किसी व्यक्ति को अपने बल और धन पर अभिमान हो जाता है तो उसका कोई लाभ नहीं होता और वह व्यक्ति भिखारी जैसा हो जाता है।

तीसरी बात सीताजी ने कही थी कि अहंकार मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु है। मनुष्य की बुद्धि अहंकार के कारण नष्ट होने लगती है। रावण की मृत्यु का मुख्य कारण उसका अहंकार था। अहंकार व्यक्ति को विनाश की ओर ले जाता है। माता सीता को रावण ने बताया था और चौथी और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मनुष्य चाहे कितना भी शक्तिशाली क्यों न हो, अगर वह अपनी शक्ति का सही उपयोग नहीं कर सकता है, तो उसकी शक्ति उसके अपने जीवन के लिए हानिकारक साबित होती है।

जो व्यक्ति अपनी शक्ति का उपयोग अधर्म के लिए करता है वह समय से पहले मर जाता है। रावण को भी अपनी शक्तियों पर बहुत गर्व था और हम सभी जानते हैं कि इसका अंत कैसे हुआ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper