सीबीआई के नए निदेशक राव की पत्नी संध्या पर करोडो के लेनदेन का खुलासा

दिल्ली ब्यूरो: सीबीआई के नए कार्यकारी नदेशक एम नागेश्वर राव फसते नजर आ रहे हैं। रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (आरओसी) के रिकॉर्ड से खुलासा हुआ है कि राव की पत्नी एम संध्या और कोलकाता स्थित ट्रेडिंग कंपनी एंजेला मर्केंटाइल्स प्राइवेट लिमिटेड के बीच वित्त वर्ष 2011 और 2014 के दौरान करोड़ों की लेनदेन हुई।

आरओसी के रिकॉर्ड से पता चलता है कि राव की पत्नी एम संध्या ने मार्च 2011 को समाप्त होने वाले वित्तीय वर्ष में एएमपीएल से 25 लाख रुपये उधार लिए थे लेकिन इसके बाद संध्या ने कंपनी को 2012 और 2014 के अंत में करोड़ों का कर्ज दिया। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार संध्या ने तीन शाखाओं में एएमपीएल को 1.14 करोड़ रुपये का ऋण दिया। जिसमे वित्त वर्ष 2012 में 35.56 लाख, वित्त वर्ष 2013 में 38.27 लाख रुपये और वित्त वर्ष 2014 में 40.2 9 लाख रुपये दिए गए।

आरओसी रिकॉर्ड के अनुसार एएमपीएल के निदेशक प्रवीण अग्रवाल हैं। रिपोर्ट के अनुसार प्रवीण ने बताया कि ”संध्या हमारे प्रिय परिवार के मित्र (राव) की पत्नी हैं। मैं उसे तब से उन्हें जानता हूं जब वह ओडिशा में एक अधिकारी थे। वे हमारे परिवार की तरह हैं। ‘ अग्रवाल ने कहा ”यदि आप किसी को पारिवारिक मित्र में रूप में जानते हैं तो उससे कर्ज लेने में क्या परेशानी है.

ओडिशा-कैडर के आईपीएस अधिकारी राव ने पिछले मंगलवार की रात अंतरिम आधार पर सीबीआई का प्रभार संभाला था। जिसके बाद निदेशक आलोक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना छुट्टी पर भेज दिया गया था। राव 2008 और 2011 के बीच सीआरपीएफ में थे. अप्रैल 2012 में वह सीबीआई संयुक्त निदेशक के रूप में केंद्र में तैनात होने से पहले 2012 में वह ओडिशा लौट आए। रिपोर्ट के अनुसार एएमपीएल के पंजीकृत कार्यालय साल्ट लेक में सीए 39 का दौरा किया गया जहां सुरक्षा गार्ड और इमारत के देखभाल करने वाले ने पुष्टि की कि यह अग्रवाल का निवास है। गार्ड ने शुक्रवार को कहा, “यहां कोई कार्यालय नहीं है, यह एक आवासीय इमारत है. परिवार यहां नहीं है। “

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper