सीबीएसई 12वीं की परीक्षा में उत्तर प्रदेश की हंसिका और करिश्मा ने किया टॉप, 83.4 फीसदी छात्र सफल

नई दिल्ली: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड(सीबीएसई) ने गुरुवार को 12वीं कक्षा का परिणाम घोषित कर दिया। इस बार कुल 83.4 प्रतिशत छात्र-छात्राओं ने सफलता हासिल की है। हर बार की तरह इस बार भी लड़कियों ने लड़कों से बाजी मारी। उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के दिल्ली पब्लिक स्कूल की हंसिका शुक्ला और मुजफ्फरनगर के एसडी पब्लिक स्कूल की करिश्मा अरोड़ा ने संयुक्त रूप से 500 में से 499 अंक लाकर प्रथम स्थान हासिल किया है।

बोर्ड द्वारा घोषित परिणाम के अनुसार तीन लड़कियों ने 498 अंक पाकर दूसरा स्थान हासिल किया। इसमें उत्तराखंड के निर्मल आश्रम दीपमाला पब्लिक स्कूल ऋषिकेश की गौरांगी चावला, केन्द्रीय विद्यालय रायबरेली की एश्वर्या और हरियाणा के बीआरएस इंटरनेश्नल पब्लिक स्कूल जींद की भव्या शामिल हैं। वहीं 497 अंक पाकर 18 छात्र तीसरे स्थान पर हैं। इनमें लखनऊ पब्लिक स्कूल साउथ सिटी, लखनऊ की आयुषी उपाध्याय, दिल्ली पब्लिक स्कूल सेक्टर-24 रोहिणी दिल्ली की महक तलवार, सेंट ल्यूक सीनियर सेकेंडरी स्कूल सोलन हिमाचल प्रदेश के पार्थ सैनी, वसंत वैली स्कूल वसंत कुंज, नई दिल्ली के विराज जिंदल और एल. इंटरनेश्नल स्कूल सोमदत्त विहार गढ़ रोड मेरठ उत्तर प्रदेश की अन्नया गोयल, हिसार की रूबानी चीमा, गाजियाबाद की आशिना जैन, मेरठ की वंशिका भगत, गाजियाबाद के अर्पित माहेश्वरी, चंडीगढ़ के दिशांक जिंदल, मेरठ की दिव्या अग्रवाल, देहरादून के पीयूष कुमार झा, अलवार की तिषा गुप्ता, चेन्नई के जी. कार्तिक बालाजी, नोएडा की गरिमा शर्मा, नागपुर के इबादत सिंह बख्शी, गाजियाबाद की प्रज्ञा खरकवाल और नैनीताल की श्रेया पांडे शामिल हैं।

सीबीएसई चेयरमैन अनिता कारवाल ने बताया कि बोर्ड के कर्मचारी पिछले 15 दिन से रिजल्ट तैयार करने में जुटे थे। इस बार रिकॉर्ड 28 दिन में रिजल्ट घोषित करने के लिए कर्मचारी घर भी नहीं गए। अंतिम परीक्षा चार अप्रैल को आयोजित की गई थी। इस वर्ष 31 लाख छात्र-छात्राओं ने 15 फरवरी से 4 अप्रैल के बीच सीबीएसई बोर्ड की परीक्षा दी थी। इसमें कुल 83.4 प्रतिशत छात्र उत्तीर्ण हुए। यह गत वर्ष की तुलना में 0.39 प्रतिशत अधिक है। इस साल, लड़कियों ने लड़कों की तुलना में 9 प्रतिशत बेहतर प्रदर्शन किया। लड़कियों का कुल पास प्रतिशत 88.70 प्रतिशत है जबकि 79.4 प्रतिशत लड़कों ने परीक्षा पास की है।

ट्रांसजेंडर्स का पास प्रतिशत 83.3 प्रतिशत है। सबसे ज्यादा त्रिवेंद्रम रीजन में 98.2 प्रतिशत छात्र पास हुए। त्रिवेंद्रम का पास प्रतिशत 98.2 प्रतिशत है। चेन्नई क्षेत्र में उत्तीर्ण प्रतिशत 92.93 प्रतिशत है और दिल्ली क्षेत्र में पास प्रतिशत 91.87 प्रतिशत है। दिल्ली में इस वर्ष कुल 2,62,710 छात्रों ने पंजीकरण कराया था। हालांकि 2,59,868 छात्र ही परीक्षा देने पहुंचे। इनमें से 2,38,729 छात्र ही उत्तीर्ण होने में सफल हुए। दिल्ली में छात्रों को पास प्रतिशत 91.87 रहा। जबकि पिछले साल 2,39,864 छात्रों में से केवल 2,13,,487 ही उत्तीर्ण हुए थे। उस समय पास प्रतिशत 89 था। केंद्र सरकार द्वारा संचालित केन्द्रीय विद्यालयों ने 98.54 प्रतिशत और जवाहर नवोदय विद्यालयों ने 96.62 प्रतिशत सफलता दर्ज की है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper