सीमा पर भारत को आंखें दिखा रहा नेपाल, जिसका रखा हमेशा छोटे भाई की तरह ध्यान

नई दिल्‍ली: नेपाल वो पड़ोसी है जिसका भारत ने हमेशा छोटे भाई की तरह ध्‍यान रखा है। इधर पिछले कुछ दिनों से वह चीन के प्रभाव में आकर भारत के खिलाफ मोर्चा खोलकर बैठा है। पहले अपने नए नक्‍शे में भारत के कई इलाकों को अपने सीमा में शामिल कर लिया। उसके बाद बिहार से लगे बॉर्डर पर अचानक वहां की सशस्‍त्र पुलिस ने गोलियां बरसा दीं। हमले में एक भारतीय नागरिक की मौत हुई है और दो घायल बताए जा रहे हैं। इन सारे घटनाक्रम के बावजूद, भारत मित्रता निभा रहा है। शनिवार को देहरादून में इंडियन मिलिट्री अकैडमी (IMA) की पासिंग आउट परेड थी। कुल 423 कैडेट्स में से तीन कैडेट्स नेपाल से भी थे।

IMA में मित्र देशों के कैडेट्स को भी ट्रेनिंग दी जाती है। इस बार विदेश‍ियों में सबसे ज्‍यादा 48 मिलिट्री ऑफिसर अफगानिस्‍तान के थे। तजाकिस्‍तान के 18 कैडेट्स को भी ट्रेनिंग दी गई। इसके अलावा चीन के भी कई कैडेट्स शामिल रहे। इसके अलावा भूटान, मालदीव, श्रीलंका के कैडेट्स को भी ट्रेनिंग दी जाती है। भारतीय सेना में नेपाली नागरिकों को मौका भी दिया जाता है। ट्रेनिंग में कुल 333 भारतीय और नौ देशों के 90 कैडेट्स पास हुए हैं। पासिंग आउट सेरेमनी के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ जब वर्दी पर रैंक का बैज लगाने के लिए कैडेट्स के लिए कैडेट्स के माता-पिता मौजूद नहीं रहे।

नेपाल ने पिछले महीने अपना नया नक्‍शा जारी किया था। इस नए नक्शे में लिपुलेख, कालापानी और लिंपियाधुरा को नेपाल ने अपने क्षेत्र में दिखाया है। प्रधानमंत्री के. पी. ओली के नेतृत्व वाली नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी ने इस संविधान संशोधन विधेयक को नेपाल की संसद में पेश किया। प्रमुख विपक्षी दल नेपाली कांग्रेस और मधेसी-आधारित पार्टियों की तरफ से इसे समर्थन भी मिला। भारत ने 28 मई को कहा था कि वह नेपाल के साथ पारस्परिक सम्मान के आधार पर और सीमा के मुद्दे को हल करने के लिए विश्वास के माहौल में मुद्दे को सुलझाना चाहता है।

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 8 मई को उत्तराखंड में लिपुलेख र्दे को चीन में कैलाश मानसरोवर मार्ग से जोड़ने वाली एक नई सड़क का उद्घाटन किया था। नेपाल ने इसका विरोध किया था और क्षेत्र में सुरक्षा चौकी लगाने की धमकी दी थी। कुछ दिन बाद नेपाल ने नया नक्‍शा जारी किया। यही नहीं, उसने भारतीय सीमा से लगी एक रोड पर 12 साल बाद काम शुरू करा दिया है। यह रोड उत्‍तराखंड के धारचूला कस्बे से होकर गुजरती है। करीब 130 किलोमीटर लंबी धारचूला-टिनकर रोड का 50 किलोमीटर का हिस्‍सा उत्‍तराखंड से लगा हुआ है। भारत और नेपाल के बॉर्डर पर शांति रहती है। दोनों देशों के बीच आवाजाही के लिए किसी वीजा की जरूरत भी नहीं होती। मगर अब नेपाल के तेवर बदल रहे हैं। शुक्रवार को भारत-नेपाल सीमा पर सीतामढ़ी जिले के सोनबरसा थाना क्षेत्र में नेपाल की बॉर्डर फोर्स ने अंधाधुंध गोलीबारी कर दी। इसमें एक भारतीय की मौत हो गई जबकि दो घायल हो गए। सशस्‍त्र सीमा बल (SSB) के डीजी राजेश चंद्रा के मुताबिक, एक स्‍थानीय विवाद के चलते नेपाल की फोर्स ने फायरिंग की। इस मामले में एक रिपोर्ट केंद्रीय गृह मंत्रालय को सौंपी गई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper