सीरिया में क्यों एक आंख पर हाथ रखकर फोटों ले रहे लोग?

नई दिल्ली: सीरिया व दुनिया भर के लोग इन दिनों में 2 महीने के एक बच्चे के समर्थन में आगे आए हैं जो दमिश्क के पास हुए हमले में अपनी एक आंख गंवा चुका है। करीम,दो महीने का बच्चा है जिसके सिर पर भी गंभीर चोटें आई हैं। सीरिया के पूर्वी गौटा में सरकारी हमले में करीम के साथ यह हादसा हुआ। इतना ही नहीं,हमले में उसने अपनी मां को भी खो दिया। करीम की तस्वीरें सामने आते ही वह चर्चा में आ गया।

सोशल मीडिया पर करीम के लिए कई हैशटैग चल रहे हैं। हैशटैग का 30 हजार से अधिक बार उपयोग किया गया है। लोग उसके समर्थन में अपनी एक आंख पर हाथ रखकर तस्वीरें साझा कर रहे हैं। सीरिया में 2011 से गृहयुद्ध जारी है। आईएस आतंकियों से पूरा देश तबाह हो गया है। इसतरह के दर्जनों करीम सीरिया में हैं,जिनकी न सिर्फ जिंदगी बर्बाद हो गई है,बल्कि उनके परिवार भी पूरी तरह खत्म हो गए हैं। इस लड़ाई में तीन लाख से अधिक लोग मारे गए। करोड़ों विस्थापित हुए हैं।

पूर्वी गौटा में दो लाख बच्चे फंसे हैं,जिन्हें खाने की चीजों की कमी का सामना करना पड़ रहा है। जहां सीरिया सरकार ने हमले किया,वहां 100 बच्चों को तत्काल मदद की जरूरत है। मगर,राष्ट्रपति असद की सरकार ने संयुक्त राष्ट्र को प्रभावित लोगों को तत्काल चिकित्सा मदद देने से रोक दिया। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा समिति में ब्रिटेन के प्रतिनिधि मैथ्यू रिरक्रॉफ्ट ने करीम के समर्थन में ट्वीट किया।

मैथ्यू ने लिखा,जब हम संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सत्र में बैठकर यह कहते हैं कि ऐसे मुद्दों पर कोई कदम नहीं उठाना और ज्यादा लोगों की जान ले लेगा। और स्कूलों को तबाह कर देगा। और ज्यादा बच्चों को बर्बाद कर देगा। करीम इसकी निशानी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper