सीवर में फंसे 4 लोगों ने तोड़ा दम, केबल की मरम्मत करने उतरे मजदूरों को मौत, बचाने गए रिक्शा चालक की भी गई जान

नई दिल्ली: दिल्ली के रोहिणी इलाके में मंगलवार शाम को सीवर में फंसे चार लोगों को तमाम कोशिशों के बावजूद नहीं बचाया जा सका। एनडीआरएफ की टीम ने सुबह चारों के शव बाहर निकाले। संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर में सीवर से गुजर रही टेलीफोन केबल की मरम्मत करने घुसे तीन मजदूर फंस गए। इन्हें निकालने गया रिक्शा चालक भी अंदर ही फंस गया। एनडीआरएफ की टीम ने रात भर रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया, लेकिन किसी की जान नहीं बच पाई।

जानकारी के अनुसार, रोहिणी सेक्टर के ई ब्लाक में सीवर के भीतर से टेलीफोन की केबल गुजर रही है। इन केबल में फॉल्ट की शिकायत मिली थी। फॉल्ट ठीक करने का ठेका जनकपुरी स्थित निजी फर्म को दिया गया है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि मंगवार शाम को सुपरवाइजर सूरज साहनी दो मजदूरों बच्चू एवं पिंटू के साथ मौके पर मरम्मत करने गया था। करीब 15 फीट गहरे सीवर के ढक्कन को हटाकर बच्चू एवं पिंटू अंदर घुसे। सीवर में टेलीफोन के अलावा बिजली के भी तार थे। काफी देर तक नहीं निकलने पर पर सूरज उन्हें देखने के लिए सीवर में घुसा। लेकिन वह खुद भी फंस गया। इस दौरान वहां खड़े रिक्शा चालक सतीश ने यह हादसा देखा। वह इनकी जान बचाने के लिए सीवर में घुस गया। एक के बाद एक करके चार लोगों के सीवर में फंसने पर हड़कम्प मच गया। करीब साढ़े छह बजे पुलिस एवं दमकल को घटना की सूचना दी गई। इसके बाद मौके पर बचाव दल पहुंच गया।

जहरीली गैस और बिजली के तार बने बाधा
करीब 15 फीट गहरे सीवर में जहरीली गैस भरी पड़ी है। इसके अलावा बिजली के केबल भी हैं। इसकी वजह से बचाव कार्य शुरू करने में दिक्कत हो रही थी। तारों के बीच में फंसने की आशंका थी। इसलिए गोताखोर और दमकल की टीम को अंदर जाने में दिक्कत हो रही थी। करीब ढाई घंटे बाद जेसीबी के जरिए सीवर को तोड़ने का काम शुरू हुआ। फिर पूरे तरीके से बचाव कार्य शुरू हो पाया।

बिना सुरक्षा उपकरणों के घुसे सीवर में
पुलिस अधिकारी ने बताया कि मरम्मत के लिए सीवर में घुसने के दौरान इनके पास जरूरी सुरक्षा उपकरण नहीं थे। जबकि गैस सिलेंडर और अन्य बाडी प्रोटेक्टर होने चाहिए थे।

मौके पर भारी भीड़, ट्रैफिक जाम को दूर करने में जुटी पुलिस
पुलिस अधिकारी ने बताया कि बच्चू और पिंटू उत्तम नगर इलाके में रहते हैं। वहीं रिक्शा चालक सतीश पास की सरदार कालोनी में रहता था। मौके पर सतीश के भाई दीपक ने अपने भाई के लापता होने की सूचना दी थी। चूंकि घटनास्थल मुख्य बवाना रोड पर स्थित है। लोग अपने वाहन को रोक कर जानकारी लेने लग रहे थे। इसकी वजह जाम की स्थित बन गई।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper