सुंदरता से जुडी हुई कुछ ऐसी बाते जिनका आपको नहीं पता

खूबसूरती की बात आते ही सब के सब काफी सजग हो जाते है और सुंदरता से जुड़ी हुई हर बात को अपने ध्‍यान में रखते हैं लेकिन कई बार ऐसा होता हैं कि सौंदर्य की बात आते ही कई लोग अपनी-अपनी धारणाएं देने लगते हैं जैसे कि बार-बार बालों पर कंघा करने से बालों की चमक बढ़ती है, झुरियां केवल रूखी त्‍वचा पर ही पड़ती है, सनस्‍क्रीन लोशन सिर्फ गर्मियों में ही लगाई जाती है सौंदर्य से जुड़े कुछ ऐसे तथ्‍य भी हैं तो कि भ्रम बनकर सामने आते है और ऐसे में इनकी सच्‍चाई को जानना बुहत ज्यादा जरूरी है।

चलिए जानते हैं इनके बारे में

भ्रम: सनस्‍क्रीन लोशन का इस्तेमाल केवल गर्मियों के मौसम में ही करना चाहिए

सच्‍चाई:  सूरज की तेज़ और हानिकारक किरणें त्‍वचा को हर मौसम में ही सीधे तौर पर नुकसान पहुंचाती हैं और ऐसे में यह धारणा एकदम गलत है कि गर्मी में ही इसका इस्‍तेमाल करना चाहिए कई मामलों में तो धूप के ज्‍यादा संपर्क में रहने की वजह से स्किन कैंसर तक का खतरा रहता है।

हर मौसम में घर से बाहर निकलते समय यही कोशिश करें कि चेहरे व खुली हुई त्‍वचा पर हर बार एसपीएफ और पीए (SPF and PA) युक्‍त सनस्‍क्रीन लोशन ज़रूर लगाएं इस लोशन को अपनी त्‍वचा पर लगाकर यूवीए और यूवीबी (UVA and UVB) किरणों से बचाएं।

विटामिन – सी युक्‍त चीजें खाने और इसके प्रोडक्‍ट को इस्‍तेमाल में लेने से त्‍वचा को पोषण मिलता ही रहता है जिसकी वजह से इसमें नमी और चमक बनी रहती है और ऐसे में त्‍वचा संबंधी कोई दिक्‍कत नहीं होती हैं।

भ्रम: लिपस्टिक, काजल आदि को फ्रिज में रखने से इन्‍हें काफी लंबे समय तक प्रयोग कर सकते हैं

सच्‍चाई:  ज्‍यादातर घरों में महिलाएं लिपस्टिक, काजल या अन्‍य किसी ब्‍यूटी प्रोडक्‍ट्स के खराब होने या फिर रूम टेम्‍परेचर में पिघलने के डर से इन्हें फ्रिज में स्‍टोर करके रखती है जिससे कि इनकी लाइफ बढ़ाई जा सके असल में ऐसा करने से इनकी लाइफ पर कोई भी असर नही होता हैं केवल इतना होता हैं कि इनकी शेप जैसी होती है वैसी ही बनी रहती है।

भ्रम: बालों पर बार-बार कंघा करने से इनकी चमक बढ़ती है

सच्‍चाई:  काले, घने और लंबे बालों की चाहत में बालों का अच्छे से खास ध्‍यान रखना बहुत अच्‍छी बात है लेकिन आप इस चक्‍कर में पूरा दिन ही बालों को कंघा करते रहे ये बात सही नहीं है। लेकिन अगर आपको लगता है कि आपके बाल रूखे है और बार-बार की गई ब्रशिंग से इनके सुलझने के साथ इनमें चमक भी आ जाएगी तो फिर यह एक भ्रम ही हैं और इस आदत के बजाएं आप बालों को शैम्‍पू करने के बाद क्रीमी कंडीशनर अवश्य लगाएं ताकि आपके बाल सिल्‍की और सॉफ्ट बने रहने के साथ ही सुलझे भी रहें। मोटे दांतो वाला कंघा करना बालों की सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। बस कोशिश करें कि आप गीले बालों में कंघा करने से बचें।

भ्रम: विटामिन-ई से दाग-धब्‍बे दूर हो जाते है

सच्‍चाई: इस बात का कोई भी वैज्ञानिक तथ्‍य नहीं है हां यह बात ज़रूर कह सकते हैं कि विटामिन-सी युक्‍त चीजें खाने और इसके प्रोडक्‍ट इस्‍तेमाल कर लेने से त्‍वचा को पोषण मिलता है जिसकी वजह से इसमें नमी और चमक बनी रहती है और ऐसे में त्‍वचा संबंधी दिक्‍कतें नहीं होती हैं और चमक भी बनी रहती है और ऐसे में त्‍वचा संबंधी कोई दिक्‍कत नहीं होती हैं।

भ्रम: झुर्रियों का कारण त्‍वचा का रूखा होना है

सच्‍चाई:  यह केवल भ्रम ही है त्‍वचा पर झुरियां होने का कारण व्‍यक्ति की बढ़ती हुई उम्र का असर होता है बढ़ती हुई उम्र के दौरान त्‍वचा में कोलेजन की कमी होने लगती है जिससे खासतौर पर रूखी त्‍वचा पर रिंकल्‍स अन्‍य प्रकार की त्‍वचा की तुलना में ज्‍यादा दिखते हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं होता है कि त्‍वचा रूखी है तो ही झुर्रियां दिखेंगी ऐसे में त्‍वचा चाहे कैसी भी हो सनस्‍क्रीन लोशन या फिर क्रीम का इस्‍तेमाल किया जाएं तो झुर्रियों की इस समस्‍या को रोका जा सकता है।

भ्रम: रेगुलर कंडीशनिंग से दो मुंहे बाल नहीं होते हैं

सच्‍चाई: ये हैं कि नियमित कंडीशनिंग से बालों को पोषण मिलता है और दो-मुंहे बाल भी काफी  हद तक सुलझ जाते हैं लेकिन वे ठीक नहीं हो सकते हैं इस समस्‍या को सुलझाने का एक मात्र तरीका बस यह है कि खराब बालों को काट दिया जाए बालों को हर 4-6 सप्ताह बाद थोड़े से ट्रिम करा लेने चाहिए जिससे वे व्‍यवस्‍थित रहें और इनका विकास अच्छे तरीके से होता रहे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper