सुंदर पिचाई ने Give India को दिया पांच करोड़ रुपये का दान

न्यूयार्क: दुनिया की दिग्गज आइटी कंपनी Google और उसकी पैरेंट कंपनी Alphabet के भारतवंशी सीइओ सुंदर पिचाई ने गैर-लाभकारी संगठन Give India को पांच करोड़ रुपये का दान दिया है। यह डोनेशन कोविड-19 की वजह से लागू लॉकडाउन से प्रभावित गरीब लोगों की मदद के लिए किया गया है। Give India ने इस संदर्भ में ट्वीट के जरिए जानकारी दी है।

इससे पहले गूगल ने कोविड-19 महामारी से लड़ाई के लिए किए जा रहे प्रयासों में मदद के लिए 80 करोड़ डॉलर की प्रतिबद्धता जाहिर की थी। इसमें 20 करोड़ डॉलर की राशि छोटे कारोबारियों की मदद के लिए एनजीओ और बैंकों को दी जानी है।

Give India कोविड-19 के इस समय में देश के गरीब लोगों और दिहाड़ी मजदूरों की मदद के लिए शुरू किए गए अभियान के तहत अब तक 12 करोड़ रुपये से अधिक की राशि जुटा चुकी है। देश की बड़ी कंपनियां और कारोबारी घराने महामारी के खिलाफ मुकाबले में भारत सरकार की मदद के लिए आगे आए हैं। Tata Trusts and Tata Sons ने 1,500 करोड़ रुपये के दान की प्रतिबद्धता जतायी है। वहीं, विप्रो लिमिटेड, विप्रो इंटरप्राइजेज लिमिटेड और अजीम प्रेमजी फाउंडेशन ने कुल 1,125 करोड़ रुपये की प्रतिबद्धता प्रकट की है।

इनके अलावा कई कंपनियां सेनिटाइजर, मास्क और लोगों को खाना उपलब्ध करा रही हैं। Paytm ने सोमवार को एक अलग बयान जारी कर कहा कि कंपनी ने कोविड-19 से लड़ाई कर रहे सेना, सीआरपीएफ के जवानों और स्वास्थ्यकर्मियों को चार लाख मास्क और हाइजिन से जुड़े 10 लाख उत्पाद दिए हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper