सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली से 7 दिन में मांगा जवाब

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने पैसे देने के बावजूद फ्लैट न मिलने के कारण भटक रहे खरीदारों के प्रति संवेदना जताते हुए आम्रपाली बिल्डर से परियोजनाओं को पूरा करने के बारे में समयबद्ध समग्र योजना मांगी है। कोर्ट ने आम्रपाली को सात दिनों में योजना दाखिल करने को कहा है। सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली के खिलाफ दिवालिया कार्रवाई शुरू होने और होम बायर्स को फ्लैट दिलाए जाने से संबंधित याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान दिये है। उन्हें फ्लैट खरीदारों की चिंता है जिन्होंने अपनी सारी बचत लगा दी है। उनका पैसा किसी और मद में नहीं जाना चाहिए।

वह 7 दिनों के भीतर समग्र योजना दाखिल कर बताये कि वह कब तक और कैसे अपनी अधूरी परियोजनाएं पूरी करेगा। कोर्ट ने पेश वरिष्ठ वकील ने कहा कि गलैक्सी डेवलेपर्स समयबद्ध तरीके से अधूरे फ्लैटों का निर्माण पूरा करने के लिए तैयार है। अधूरे फ्लैट रेरा प्रावधानों के तहत 7 चरणों में 2018 से 2021 तक पूरे कर लिये जाएंगे। फ्लैट खरीदारों का पैसा एक एस्क्रू एकाउंट में जमा रहेगा उसका उपयोग सिर्फ फ्लैट निर्माण पूरा करने में ही खर्च होगा। कोर्ट ने नोएडा और ग्रेटर नोएडा अथारिटी, इंटरिम रिस्यूलूशन प्रोफेशनल (आइआरपी) आदि संबंधित पक्षों से कहा कि वे आम्रपाली के प्रस्ताव और दाखिल की गई योजना पर अपना जवाब दाखिल करें।

कोर्ट इस मामले में 21 फरवरी को फिर सुनवाई करेगा। इससे पहले होम बायर्स की ओर से पेश वकील एमएल लाहौती ने कहा कि यह मामला करीब 42 हजार फ्लैट खरीदारों से जुड़ा है। कोर्ट जेपी मामले की तरह इस मामले में भी सभी खरीदारों को अपना ब्योरा वेब पोर्टल पर डालने की अनुमति दे। अभी कोर्ट ने सिर्फ सिलिकान वैली परियोजना के खरीदारों को यह सुविधा दी। इसके अलावा कुछ लोगों ने पैसा वापस किये जाने की भी मांग की। इस पर पीठ ने कहा कि वे पहले लोगों को फ्लैट पूरा होकर देने का मामला देखेगे अगर फ्लैट नही मिलता है इसके बाद ही पैसा वापस करने पर विचार होगा।

इस बीच वकील सीयू सिंह ने आइआरपी द्वारा फ्लैट खरीदारों से और पैसा मांगे जाने का मुद्दा उठाया और आदेश रद करने की मांग की। इस पर आइआरपी के वकील ने कहा कि 21 टावरों में अग्निशमन उपकरण लगने हैं इसके लिए पैसा चाहिए। इस पर कोर्ट ने आम्रपाली को आदेश दिया कि वह स्वयं टावरों में अग्निशमन उपकरण लगाएगी और आइआरपी से कहा कि वो उस काम में कोई बाधा नहीं डालेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper