सुबह उठते ही न देखें आईना, होता है ये बड़ा नुकसान

ज्योतिष शास्त्र, वास्तु शास्त्र, सामुद्रिक शास्त्र, ऐसी ही कुछ विधाएं हैं जिनके प्रयोग से हम जीवन में आ रहे संकटों के रुख मोड़ सकते हैं। तकलीफ होने पर लोग इन शास्त्रीय उपायों का प्रयोग करते हैं, लेकिन आज जो हम आपको बताने जा रहे कुछ ऐसी जरुरी बाते जिन्हें जानकर आप भी हैरानी में आ जायेंगे.

अक्सर देखा ये गया है कि बहुत से लोग सुबह उठते ही आईना देखते हैं, जो अशुभ होता है। दिन की शुरुआत वास्तुशास्त्र के अनुसार करने पर पूरा दिन अच्छा बीतता है। हर व्यक्ति इस बात की अपेक्षा करता है कि उसके दिन की शुरुआत अच्छी तरह हो और उसकी हर योजना में उसे सफलता प्राप्त हो।

इन बातों का रखे ध्यान

वास्तु की माने तो सुबह उठते ही आईना नहीं देखना चाहिए। सुबह आईना देखने से व्यक्ति पर दिनभर नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव रहता है। वहीं आंख खुलते ही किसी भी का भी चेहरा नहीं देखना चाहिए।

दिन की अच्छी शुरुआत के लिए आंख खुलते ही अपने ईष्ट देव का ध्यान करना चाहिए। ऐसा करने में व्यक्ति के आत्मविश्वास में वृद्धि है।

सुबह उठते ही मंदिर की घंटियों की आवाज या शंख की आवाज सुनने से सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।इसके अलावा नारियल, शंख, मोर, फूल आदि का दिखना शुभ होता है।

सुबह किसी काम के सिलसिले में घर से बाहर निकलते समय यदि कोई सफाईकर्मी दिखें तो इसे शुभ माना जाता है।

सुबह का नाश्ता करते समय किसी भी पशु का नाम नहीं लेना चाहिए। ऐसा करने से दिन खराब बीतता है। सुबह सफेद गाय का दिखना शुभ माना जाता है।

The post सावधान : सुबह उठते ही न देखें आईना, होता है ये बड़ा नुकसान appeared first on LiveKhattaMeetha.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper