सूबे में कानून-व्यवस्था पंगु अपराधों की बाढ़ : अखिलेश

लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं रह गई है। योगी सरकार अपराध और अपराधियों पर अंकुश लगाने में नाकाम रही है। उन्होंने बताया कि बीते आठ महीने में मेरठ क्षेत्र में ही 498 हत्याएं हो चुकी हैं जबकि बलात्कार की 414 घटनाएं हुई हैं।

यादव ने शुक्रवार को यहां जारी अपने बयान में कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सत्ता में आने के बाद सूबे में अपराधों की बाढ़ आ गई है। हत्या, लूट, अपहरण की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। महिलाओं और बच्चियों को लगभग हर रोज अपमानजनक स्थितियों से गुजरना पड़ रहा है। बलात्कार की घटनाओं से इस प्रदेश की अब विदेशों तक में बदनामी हो रही है। भाजपा सरकार में अभी तक 39000 आपराधिक मामले दर्ज हुए हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री यादव ने तंज करते हुए कहा कि भाजपा सरकार बनने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ऐलान किया था कि अब अपराधी या तो जेल में होंगे या प्रदेश छोड़कर चले जाएंगे। मगर डेढ़ वर्ष होने को है, अपराधी न तो बाहर गए न जेल में। वे सक्रिय रूप से प्रदेश में अपनी अपराधिक गतिविधियों में संलिप्त हैं। वे पुलिस पर भी हमलावर हैं। पुलिस का इकबाल खत्म है। शासन-प्रशासन पंगु हो गया है। उन्होंने दावा किया उनकी सरकार के कार्यकाल में प्राथमिकी दर्ज कराने के लिए पुलिस थाने पर नहीं जाना पड़ता था।

महिलाओं के सम्मान और सुरक्षा के लिए समाजवादी सरकार में 1090 वूमेन पावर लाइन बनी थी। इस सेवा में शिकायतकर्ता की जानकारी गोपनीय रखे जाने की व्यवस्था थी। सपा सरकार ने शानदार अंतर्राष्ट्रीय स्तर की व्यवस्था यूपी डायल 100 शुरू की थी जिससे 10-15 मिनट के अंदर ही घटना स्थल पर पुलिस पहुंच जाती थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper