सूर्य नमस्कार नहीं कर सकते तो चंद्र नमस्कार करें, पर योग जरूर करें: नायडू

लखनऊ: स्वस्थ जीवन के ‎लिए एक स्वस्थ्य जीवनशैली को अपनाना भी बहुत जरुरी है। इसके ‎लिए अपनी ‎दिनचर्या में योग अपनाने के ‎लिए जोर देते हुए उप राष्ट्रपति एम वेकैंया नायडू ने शुक्रवार को कहा कि दुनिया भर के अनेक देशों में योग दिन पर दिन लोकप्रिय होता जा रहा है क्योंकि इससे मानसिक तनाव दूर होता है और कई गंभीर रोगों से छुटकारा भी मिलता है। उन्होंने कहा कि आज संक्रामक रोगों की तुलना में जीवनशैली ज‎नित असंक्रामक बीमा‎रियों का खतरा बढ़ गया है। उन्होंने कहा कि यह चिंता का विषय है कि विश्व में मधुमेह और हृदय रोगों के सर्वाधिक रोगी हमारे देश में हैं।

उपराष्ट्रपति लखनऊ के संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (एसजीपीजीआई) में कार्डियोलॉजी सोसायटी ऑफ इंडिया की नेशनल इंटरवेंशन काउंसिल की वार्षिक बैठक के उद्घाटन के अवसर पर बोल रहे थे। योग के महत्व को बताते हुये उन्होंने एक घटना का जिक्र किया। उन्होंने कहा, एक बार एक व्यक्ति मेरे पास आया और कहा कि सर योग तो ठीक है लेकिन एक समस्या है। मैने पूछा क्या? सर, सूर्य नमस्कार। फिर मैं उसकी समस्या समझ गया। मैने उससे कहा कि अगर तुम्हें सूर्य नमस्कार से समस्या है तो तुम चन्द्र नमस्कार किया करों। नायडू ने कहा कि सूर्य नमस्कार नहीं कर सकते है तो चंद्र नमस्कार करें लेकिन योग जरूर करें। यह मानसिक, शारीरिक और आध्यात्मिक स्वास्थ्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। दुनिया भर में योग की धूम है। आज रोमानिया, पेरू, अमेरिका, यूरोप में योग सेंटर खुल रहे है ऐसे में हमारे यहां कुछ लोग योग धर्म से जोड़ कर देखते हैं। जो ‎कि गलत धारणा है।

उन्होंने कहा कि जीवन को मात्र दीर्घायु कर देना पर्याप्त नहीं, जीवन गुणात्मक रूप से समृद्ध होना चाहिए, जीवन संतुष्ट होना चाहिए। नायडू ने आशा व्यक्त की कि डॉक्टर तथा स्वास्थ्य कर्मी लोगों में स्वस्थ जीवन शैली के प्रति जागृति पैदा करेंगे। युवाओं में दिल का दौरा पड़ने के मामलों बढ़ते जा रहे हैं ‎‎जिन पर गंभीर चिंता जा‎हिर करते हुए करते हुए उन्होंने कहा कि आज विश्व भर में लगभग 170 लाख लोग सालाना हृदय रोगों के शिकार हो रहे हैं। भारत में भी 1990 से 2016 के बीच हृदय रोगों के कारण मृत्युदर में 34 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। सबसे अधिक चिन्ता का विषय यह है कि देश में दिल का दौरा पड़ने वाले लोगों में से 40 प्रतिशत, 55 वर्ष से कम आयु के लोग हैं। हृदयघात से मरने वाले 25 प्रतिशत लोग 35 वर्ष से कम आयु के हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper