सेना दे रही पाकिस्‍तान को मुंहतोड़ जवाब, कई बंकर और चौकियां तबाह

श्रीनगर: भारतीय सेना ने 4 जवानों की शहादत का पाकिस्‍तान को दिया मुंहतोड़ जवाब देते हुए पाकिस्तान के कई बंकर और चौकियां तबाह कर दी हैं। जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान ने एक बार फिर सीज़फ़ायर का उल्लंघन करते हुए बिंबर गली सेक्टर में भारी गोलीबारी की जिसके चलते सेना का एक अफ़सर और तीन जवान शहीद हो गए तथा तीन जवान गंभीर रूप से घायल हुए हैं।

सेना की जवाबी कार्रवाई में पाक सेना को भी भारी नुक़सान पहुंचा है। इसमें पाकिस्तान की कई बंकर और चौकिया तबाह हो गई हैं। लाइन ऑफ कंट्रोल पर पाकिस्तान की भारी गोलाबारी के बीच सुंदरबनी से मंजाकोट तक सभी 84 स्कूलों को अगले तीन दिन के लिए बंद करने का फैसला लिया गया है। यह सभी स्कूल नियंत्रण रेखा से पांच किलोमीटर तक के दायरे में स्थित हैं। इस पूरे इलाके मे सेना हाई अलर्ट है।

सेना के अधिकारियों ने बताया कि हरियाणा के गुड़गांव के रंसिका गांव के रहने वाले 22 वर्षीय कैप्टन कपिल कुंडू अपने जन्मदिन से छह दिन पहले गोलाबारी में शहीद हो गये। इसके अलावा जम्मू कश्मीर के सांबा जिले के रहने वाले 42 वर्षीय हवलदार रोशन लाल, मध्य प्रदेश के ग्वालियर के रहने वाले 27 वर्षीय राइफलमैन राम अवतार और जम्मू कश्मीर के कठुआ जिले के 23 वर्षीय शुभम सिंह भी इस संघर्ष में शहीद हो गये।

इसके बाद भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई में पाक सेना के कई बंकर और चौकियां तबाह कर दी है। रविवार को ही पुंछ ज़िले में पाकिस्तान की ओर से हुई फायरिंग में एक स्थानीय लड़की और एक जवान घायल हुए थे। सेना से मिली जानकारी के मुताबिक, पाकिस्तानी सेना 120एमएम तक के गोलों से आर्टिलरी फायर किया था।

भारतीय सेना ने 4 जवानों की शहादत का लिया बदला

साथ में एटीजीएम यानी एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल्स भी दागी थी। इसके अलावा स्माल आर्म्स और मोर्टार्स का इस्तेमाल पाकिस्तान की ओर से किया गया था। पाकिस्तान ने रविवार को पहले जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले के शाहपुर इलाके में एलओसी पर गोलाबारी की। पाकिस्तानी सेना की ओर से बिना किसी उकसावे के अंधाधुंध गोलाबारी में सुबह दो भारतीय सैनिक और एक किशोरी घायल हो गए थे। इसके बाद पाक ने बीजी सेक्टर मे साढ़े तीन बजे से एलओसी पर फायरिंग शुरू कर दी। दोनों ओर से गोलाबारी में सेना के एक अधिकारी और तीन जवान बुरी तरह घायल हो गए बाद में इनकी मौत हो गई।

सीमा पर रातभर होती रही गोलीबारी

रविवार रात को पाकिस्तानी सेना की फायरिंग के बाद रातभर सीमा पार से पुंछ के दिवार, बालाकोट में और राजौरी के बिंबर गली में गोलीबारी होती रही। सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तान की ओर से एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का इस्तेमाल किया गया है। रविवार रात को सेना के एक अधिकारी ने बताया कि पाक की इस गोलीबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया है जिसके बाद दोनों तरफ से गोलीबारी जारी है।

जवानों के शहीद होने से महबूबा दुखी

जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने पाकिस्तानी सेना की ओर से संघर्षविराम का उल्लंघन कर जम्मू के राजौरी में नियंत्रण रेखा के पास की गयी गोलाबारी में सैनिकों के शहीद होने और घायल होने की घटना पर गहरी वेदना प्रकट की है। सुश्री मुफ्ती ने एक ट्वीट में कहा, राजौरी में नियंत्रण रेखा पर कल शाम गोलीबारी में चार जवानों के शहीद होने और दो अन्य के घायल होने की घटना से दुखी हूं। पीड़ति परिवारों के प्रति मेरी संवेदना। पाकिस्तानी सेना की ओर से बिना उकसावे के राजौरी में नियंत्रण रेखा पर की गयी गोलीबारी में एक कैप्टन समेत चार जवान शहीद हो गये थे, हालांकि भारतीय सेना ने भी प्रभावी जवाबी कार्रवाई की थी।

सार्वधिक सीजफायर का उल्लंघन जनवरी में किया पाक ने

सीमा क्षेत्रों में पाकिस्तान की ओर की गई फायरिंग में अब तक सैकड़ों की संख्या में जवान शहीद हुए हैं। आंकड़ों की मानें, पिछले 15 सालों में जनवरी 2018 में पाकिस्तान ने सबसे ज्यादा सीजफायर का उल्लंघन किया है। पिछले दिनों आई रिपोर्ट के मुताबिक इस साल 21 जनवरी तक पाकिस्तान 134 बार सीजफायर का उल्लंघन किया था। 2017 में पाकिस्तान ने 860, 2016 में 271 और 2015 में 387 पाकिस्तान ने सीजफायर का उल्लंघन किया था। मीडिया से आ रही रिपोर्ट्स के अनुसार पाकिस्तान की गोलीबारी में सेना के 61 से ज्यादा जवान शहीद हो चुके हैं जबकि 200 से ज्यादा आतंकियों को सेना ने ढेर किया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper