सेल्फी के फेर में गोमती में गिरा छात्र, पुलिस की सूझबूझ से बची जान

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के गोमती रिवर फ्रंट की रेलिंग पर शनिवार देर रात एक पैर पर खड़े होकर सेल्फी ले रहा छात्र आलोक कुमार यादव नदी में गिर पड़ा। पानी में गिरता देख दोस्तों ने अपनी-अपनी शर्टे उतारकर रस्सी बनाने के साथ ही कंट्रोल रूम पर सूचना दी। दोस्तों के प्रयास के दौरान ही पीआरवी 0508 मौके पर पहुंची। पीआरवी सवार सब कमाण्डर महेन्द्र कुमार व पॉयलट श्याम सुन्दर ने सूझबूझ दिखाते हुए रिवर फ्रंट पर पड़े एक बड़े पाइप की मदद से आलोक को बचा लिया। पुलिस ने उसे अस्पताल पहुंचाया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गयी।

आलोक के सकुशल होने पर परिवारवालों व दोस्तों ने पीआरवी जवानों का शुक्रिया किया। इंस्पेक्टर अम्बर सिंह ने बताया कि इन्दिरानगर के बादशाहखेड़ा निवासी आलोक कुमार यादव (17) निजी स्कूल में कक्षा-11 का छात्र है। शनिवार देर रात वह दोस्त अखिलेश, अरविंद व तीन अन्य के साथ बाइकों से गोमती रिवर फ्रंट पहुंचे। सभी दोस्त अपने-अपने मोबाइल पर सेल्फी व ग्रुप में अलग-अलग पोज की फोटो क्लिक करने लगे।कुछ नए पोज में सेल्फी लेने के लिए आलोक रिवर फ्रंट की स्टील की रेलिंग पर चढ़ गया। यह देख दोस्तों ने उसे टोका लेकिन उसने अनसूना कर दिया। यही नहीं आलोक स्टील रेलिंग के पास निकले एक फीट के पत्थर पर एक पैर पर खड़ा हुआ और दूसरे पैर को हवा में रखकर सेल्फी लेने लगा।

एक फीट के पत्थर पर सेल्फी लेने के दौरान अचानक उसका संतुलन बिगड़ा और वह गोमती में गिर पड़ा। यह देख दोस्तों के हाथ-पैर फूल गये। चींख-पुकार के दौरान ही दोस्तों ने आनन-फानन में अपनी-अपनी शर्टे उतारी। वह शर्टों में आपस में बांधकर रस्सी बनाते हुए डूब रहे दोस्त को बचाने की कोशिश कर रहे थे। इसी बीच दोस्त अरविंद ने कंट्रोल रूम पर सूचना दी। गोमती में कूदने की सूचना मिलते ही पीआरवी 0508 मौके पर पहुंची। पीआरवी पर सवार सब कमाण्डर महेन्द्र कुमार व पॉयलट श्याम सुन्दर ने सूझबूझ का परिचय दिया। उन्होंने अन्य दोस्तों को पीछे किये। उसके बाद वहां पड़े प्लास्टिक के एक लम्बे पाइप को उठाया और गोमती में आलोक को पकड़ाने की कोशिश की। इस दौरान पॉयलट ने सब कमाण्डर का हाथ पकड़ा और वे रिवर फ्रंट पर आधा झूलकर आलोक को पाइप पकड़ाने में कामयाब हो गये। कुछ ही मिनटों के अंदर पीआरवी जवानों ने आलोक को बाहर निकाला।

पुलिस ने आनन-फानन में उसे श्यामा प्रसाद मुखर्जी अस्पताल पहुंचाया। कुछ ही देर में परिवारवाले भी वहां आ गये। बेसुध परिवार ने बेटे को सकुशल देख राहत की सांस ली। परिवार, आलोक व अन्य दोस्तों ने पीआरवी जवानों को थैंक्यू बोला और दोबारा गलती न होने की बात कहकर चले गये। इंस्पेक्टर गोमतीनगर अम्बर सिंह ने गोमती में डूब रहे छात्र आलोक यादव को बचाने में अहम भूमिका निभाने वाले सब कमाण्डर महेन्द्र कुमार व पॉयलट श्याम सुन्दर की जमकर तारीफ की।

उनका कहना है कि सूचना पर जब तक वे पहुंचते, तब तक पीआरवी जवाब आलोक को बाहर निकाल चुके थे। आलोक को सही सलामत देख उन्होंने दोनों की पीठ थपथपाई। इंस्पेक्टर का कहना है कि रात में भी पीआरवी 0508 पर तैनात सब कमाण्डर महेन्द्र कुमार व पॉयलट श्याम सुन्दर पूरी लगन से अपनी ड्यूटी करते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper