सोनभद्र में प्रत्येक सोमवार को रोस्टर के अनुसार 80 ग्राम पंचायतों के लिए होगा ग्राम समाधान दिवस, बनेंगे 80 नोडल अधिकारी

सोनभद्र: जिलाधिकारी चंद्र विजय सिंह की शिकायत निस्तारण के लिए अनोखी पहल के तहत् ग्रामीणों की समस्यायों के उनके द्वार पर समाधान के लिए सबसे पहले बिठगावं निस्फ (सिरपल पुर) के पंचायत सचिवालय पर आगामी 29 अगस्त 22, सोमवार को लगने वाले प्रथम ग्राम समाधान दिवस की अध्यक्षता स्वयं जिलाधिकारी करेंगे जिसमें मुख्य विकास अधिकारी सौरभ गंगवार के साथ-साथ सम्बन्धित अधिकारी भी अपने अपने स्टाफ के साथ मौजूद रहेंगे।

ग्राम पंचायत स्तर पर ही ग्राम स्तरीय समस्या का निस्तारण से ग्रामीणों को ब्लॉक, तहसील, जिला स्तर पर भाग दौड़ से तो बचेंगे ही साथ साथ भाग दौड़ में अनावश्यक खर्चों की बचत भी होगी जो जनपद की भौगोलिक स्थिति को देखते हुए लोगो तक सुविधाएं पहुंचने के लिए कारगर साबित होगा. कार्यक्रम की उपयोगिता पर गौर करने पर पता चलता है कि ग्राम पंचायत स्तर पर जो समस्याएं मुख्यतः आती है उनमें राजस्व, पंचायती राज, ग्राम्य विकास, स्वास्थ्य, राशन, आंगनवाड़ी, शिक्षा इत्यादि से जुड़ी ज्यादा रहती हैं. इन समस्याओं को ग्राम पंचायत सचिवालय पर ही निस्तारण कर देने से विकास खंड तहसील स्तर एवं जनपद स्तर पर वही समस्याएं आएंगी जिसका निस्तारण या तो ग्राम पंचायत के द्वारा संभव नहीं है अथवा पंचायत के निस्तारण से शिकायतकर्ता संतुष्ट नहीं है ऐसे में जो शिकायतें छन के ऊपर तक आएंगी उसका निस्तारण अच्छी गुणवत्ता के साथ हो सकेगा।

प्रक्रिया के अनुसार जहाँ अभी तक ग्राम पंचायतों में ग्राम पंचायत सचिव के निर्धारित क्लस्टर हैं और आवंटित क्लस्टर के अनुसार ग्राम पंचायतों में पंचायत सचिवालय संचालित है परंतु प्रत्येक दिवस सभी ग्राम स्तरीय अधिकारी कर्मचारी साथ में उपस्थित नही हो पाते है। अब प्रत्येक सोमवार को 2 घंटे का समय निर्धारित करते हुए रोटेशन के अनुसार ग्राम पंचायत सचिवालय पर बैठने हेतु समय निर्धारित किया जा रहा है जिसके अनुसार लेखपाल, पंचायत सहायक,रोजगार सेवक, कोटेदार, आशा, एएनएम एवं आंगनवाड़ी, सफाई कर्मी वहां मौजूद रहेंगे। जिससे जो समस्याएं ग्राम पंचायत सचिवालय में आ रही हैं उसका त्वरित रूप से निस्तारण किया जा सके. इसमें और स्पष्ट करते हुए बताया गया कि एक ग्राम पंचायत सचिव के पास अगर 6 ग्राम पंचायत है तो पहले सोमवार को कलस्टर के पहले ग्राम पंचायत में दूसरे सोमवार को कलस्टर के दूसरी ग्राम पंचायत में इसी प्रकार क्रमशः रोस्टर के अनुसार 10 से 12 बजे का समय निर्धारित रहेगा।

जो तिथि जिसके लिए निर्धारित होगा उसका प्रचार प्रसार भी कराया जाएगा साथ में ग्राम पंचायत सचिवालय पर ग्राम वासियों की जानकारी हेतु लिखा जाएगा। इसमें विभागों में आपसी समन्वय भी होगा जैसे कि राजस्व विभाग के ग्राम स्तरीय अधिकारी लेखपाल है उनका भी उसी अनुसार रोस्टर निर्धारित किया जाएगा ताकि ग्राम स्तर पर जो समस्याएं आती है उसका निस्तारण वही किया जाय। जनसुनवाई, मुख्य मंत्री पोर्टल, जिलाधिकारी पोर्टल पर यदि उस ग्राम।पंचायत की कोई शिकायत है तो उसका भी निस्तारण किया जाएगा। ग्रामीणों के आय,जाति,निवास प्रमाण, विरासत पत्र भी बनाया जायेगा।

इसी प्रकार स्वास्थ्य विभाग के ग्राम स्तर पर तैनात आशा, एएनएम की उपस्थिति भी सुनिश्चित करायी जायेगी जिसमे किसी का अगर आयुष्मान कार्ड नही बना है उनको वहा बुला कर बनवाया जा सकता है। जिनको स्वास्थ्य विभाग से जो भी शिकायत है या जो जरूरत है उसका निस्तारण वहीं किया जाएगा। हैंड पंप में क्लोरिन की गोली, जन सामान्य को स्वास्थ्य सुविधा को प्रदान की जाएगी पंचायती राज/ग्राम्य विकास विभाग के लोगों के ग्राम पंचायत सचिवालय पर उपस्थित रहने से लोगो के परिवार रजिस्टर का नकल, मृत्यु रजिस्टर का नकल, कुटुंब रजिस्टर का नकल, हैंड पंप मरम्मत, मनरेगा के मजदूरी का मजदूरी का भुगतान, ग्राम पंचायत से संबंधित अन्य शिकायतों का निस्तारण होगा। बेटी बचाओ बेटी बढ़ाओ के तहत सुमंगला का फार्म भी भरवाया जायेगा।

ग्राम पंचायत में राशन से संबंधित जो भी शिकायत आयेगी तो वहां कोटेदार, प्रधान, लेखपाल, सचिव के मौजूदगी में उसका निस्तारण किया जाएगा। ग्राम पंचायतों में स्कूल के पठन-पाठन और एमडीएम से संबंधित जो शिकायतें हैं उनका निस्तारण किया जाएगा। बच्चो की उपस्थिति को बढ़ाने के लिए जिस घर के बच्चे स्कूल नहीं जा रहे हैं अथवा जिनका नामांकन नहीं है उसकी भी जानकारी उस दिन अध्यापक के द्वारा ग्राम प्रधान को अभिभावक का नाम बताया जा सकता है कि अमुक के बच्चे स्कूल नहीं आ रहे हैं जिससे की उपस्थिति सुधारने में भी मदद मिलेगी। जिला कार्यक्रम अधिकारी भी इस दिवस पर ग्राम पंचायत में अपनी आंगनवाड़ी के साथ उपस्थित रहेंगे, और आंगनवाड़ी से संबंधित जो शिकायतों का निस्तारण तत्काल किया जाएगा। विभाग से संचालित योजनाओं को लोगो तक पहुंचाने का प्रयास किया जायेगा।

यही नहीं ग्राम पंचायत में एक शिकायत रजिस्टर बनाया जायेगा जिसमे प्राप्त शिकायतों का अंकन कर निस्तारित करते हुए उसका निस्तारण चढ़ा दिया जाएगा। जो शिकायत ग्राम स्तर पर निस्तारण होने योग्य नहीं है उस शिकायत को ग्राम प्रधान के पैड पर संबंधित ग्राम स्तरीय अधिकारी के संयुक्त हस्ताक्षर से विकास खंड स्तर, तहसील स्तर एवं जिला स्तर पर प्रेषित कर दिया जाएगा। ग्राम पंचायत स्तर पर ग्राम समाधान दिवस में विकासखंड,तहसील एवं जनपद स्तर से अधिकारियों को भी सम्मिलित होने के लिए निर्देशित किया जा रहा है। जिससे कि ग्राम समाधान दिवस की गुणवत्ता बनी रहे और निस्तारण की गुणवत्ता के साथ सबकी उपस्थिति सुनिश्चित कराई जा सके।

रविंद्र केसरी की रिपोर्ट

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper