सोनाक्षी सिन्हा ने किसानों को समर्पित की कविता, बोलीं- क्यों अपने ही हिस्से की रोटी खाना जायज नहीं?

देश में पिछले 75 दिनों से कृषि बिलों के खिलाफ किसानों का आंदोलन जारी है। हालांकि अब इस आंदोलन में हॉलीवुड हस्तियां भी एक्टिव हो गई हैं, जिसके इस मुद्दे पर शुरू से ही चुप्पी साधे बैठे बॉलीवुड स्टार्स की जुबान भी खुल गई है। कई स्टार इस मामले में हॉलीवुड स्टार्स की दखल की निंदा कर रहा है तो कई किसान आंदोलन का समर्थन कर रहा है। वहीं अब एक्ट्रेस सोनाक्षी सिन्हा ने किसान के समर्थन में एक वीडियो शेयर किया है, जो खूब वायरल हो रहा है।

Bollywood Tadka

इस वीडियो में सोनाक्षी सिन्हा किसान आंदोलन के समर्थन में एक कविता पढ़ रही हैं और केंद्र सरकार पर तंज कस रही हैं। कविता पढ़ते हुए एक्ट्रेस बोलती हैं-

क्यों? सब पूछते हैं क्यों हम सड़कों पर उतर आए हैं?
खेत खलिहान के मंजर छोड़े, क्यों बंजर शहरों में घुस आए हैं?
ये माटी, बोरी, हसिया, दरांती वाले हाथ, क्यों हमने राजनीति के दलदल में सनवाए हैं?
दही, मक्खन और गुड़ वालों ने क्यों इरादे मशालों से सुलगाए हैं?
अरे बूढ़ी आखों, नन्हें कदमों ने क्यों ये दंगे भड़काए हैं?
दंगे, ये तुम्हें दंगे दिखाई देते हैं, क्यों?
अपने ही हिस्से की रोटी खाना जायज नहीं है, क्यों?
मक्के की रोटी, सरसों का साग, वैसे तो बड़े चटकारे लेते हो
अब उन्हीं के खातिर ये सब करना ठीक नहीं है, क्यों?
नजरें मिलाकर जरा खुद से पूछो, क्यों?

बता दें यह कविता वरद भटनागर ने लिखी है और इसका शीर्षक ‘क्यों’ हैं। वीडियो को शेयर करते हुए सोनाक्षी ने कैप्शन में लिखा,”नजरें मिलाके खुद से पूछो- क्यों? यह कविता उन हाथों को समर्पित है जिनकी वजह से हम रोज भोजन करते हैं।” इसके साथ उन्होंने हैशटैग किसान आंदोलन लिखा है।

Bollywood Tadka

सोनाक्षी सिन्हा के काम की बात करें तो उन्हें आखिरी बार फिल्म ‘घूमकेतू’ में देखा गया था। इस फिल्म में एक्ट्रेस नवाजुद्दीन सिद्दिकी के साथ नजर आईं थी। वहीं अब उनकी अपकमिंग फिल्म ‘भुजः द प्राइड ऑफ इंडिया’ है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper