सोने से पहले पानी के साथ 1 लौंग खा लें मर्द, फिर देखें इसकी पॉवर

लखनऊ: लौंग का नाम तो आमतौर पर हर किसी ने सुना ही होगा और जिसने भी सुना होगा वो ये भी जानता होगा की इसका किस चीज़ में इस्तेमाल होता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें की लौंग का इस्तेमाल आमतौर पर गरम मसाले के रूप में इस्तेमाल होता है जिसका उपयोग हम अपने रसोईघरों में करते हैं।

वैसे आपको यह भी बताते चलें की लौंग का इस्तेमाल ना सिर्फ सब्जी या मसाले में ही नहीं बल्कि और भी कई तरह से इस्तेमाल होता है जैसे की इसका कई तरह की आयुर्वेदिक दवा आदि बनाने में भी इस्तेमाल होता है। बताते चलें की लौंग एक तरह से एंटीसेप्टिक, जीवाणुरोधी और एनाल्जेसिक के रूप में भी बहुत ही बेहतर तरह से काम करता हैं। शायद आपको इस बात की जानकारी नहीं होगी की लौंग में कितने ढेर सारे फायदे होते हैं और इसमे आपको फैटी एसिड, फाइबर, विटामिन, ओमेगा-3 जैसे तमाम खनिजों का बहुत ही अच्छा स्रोत माना जाता है।

सामान्य तौर पर मौसम बदलने से लगभग हर कोई किसी ना किसी छोटी मोटी बीमारी से ग्रस्त हो जाता है और चूंकि इन दिनों सर्दियों का मौसम भी है तो इस दौरान हर कोई बीमार हो ही जा रहा है। ऐसे में अगर आप लौंग के तेल में थोड़ा सा शहद मिलाकर अगर उसके सेवन करते हैं तो आपको बताते चलें की आपकी बीमारी बहुत ही जल्दी ठीक हो जाती है। इसके अलावा अगर आपको आए दिन आपके पेट में रह रह कर दर्द उठता है या फिर आपकी पाचन शक्ति कमजोर है तो इस तरह की समस्या से निजात पाने के लिए आप रात में सोने से पहले हल्के गुनगुने पानी में दो लौंग दाल कर उसे निगल लेते है तो आपको काफी आराम मिल जाता है।

इसके अलावा आप खाना खाने के बाद एक लौंग चबाते हैं तो इससे आपको काफी ज्यादा आराम मिलता है और ऐसा करने से आपका पेट दर्द कुछ ही दिनों में खत्म हो जाता है। बता दें की किसी इस तरह की समस्या के लिए कोई भी दावा आदि खाने से बेहतर है की पूरी तरह से आयुर्वेदिक और बिना कोई नुकसान करने वाली लौंग का सेवन करने ज्यादा फायदेमंद है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper