स्कूलों को खोलने को लेकर कक्षा 12 का छात्र पहुंचा सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली: कक्षा 12 के एक छात्र ने स्कूलों में भौतिक रूप से कक्षाएं शुरू करने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दी है। छात्र की ओर से दी गई याचिका में दावा किया गया है कि नियमित स्कूलिंग से वंचित किए जाने के कारण छात्र समुदाय तनाव और सामाजिक रूप से अलग-थलग महसूस कर रहा है।दिल्ली के रहने वाले छात्र अमर प्रेम प्रकाश ने कहा कि मौजूदा हालात का कोई हिसाब नहीं है।

क्योंकि कई राज्यों में स्कूल खोलने का फैसला कर लिया गया है वहीं कुछ राज्यों में इस बारे में अभी कोई फैसला नहीं किया गया। ऐसे में बड़ी संख्या में छात्र समुदाय कन्फ्यूजन में है और उन्हें वंचित रहने की फीलिंग आ रही है। सरकार ने अधिकांश सार्वजनिक स्थानों में लोगों के इकट्ठा होने की अनुमति जलाई से दे दी गई है।

यह याचिका शुक्रवार को कोर्ट में फाइल की गई और इस पर सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई बाकी है। ऑनलाइन स्कूली कक्षाओं से थककर यह याचिका वकील रवि प्रकाश मेहरोत्रा के माध्यम से फाइल की गई है। वकील मेहरोत्रा ने कहा, “लगातार और हमेशा नियमित कक्षाओं से वंचित रखने से छात्रों की मानसिक सेहत पर बुरा असर डाल रहा है। इससे छात्र न सिर्फ तनाव में जा रहे हैं बल्कि खुद को समाज से कटा हुआ महसूस कर रहे हैं।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper