स्त्रियों के संबंध में बताई इन बातों का पता होना चाहिए हर पुरुषों को, पढें यहां

लखनऊ। तुलसीदास जी ने स्त्रियों के बारे में कुछ ऐसी बातें बताई हैं जिनका सभी को पता होना चाहिए। तुलसीदास जी जिन्होंने रामचरितमानस की रचना की थी। उन्होंने स्त्रियों के स्वभाव को लेकर बहुत सी बातें बताई हैं जिनके बारे में हर पुरुषों को पता होना चाहिए। क्योंकी जो भी व्यक्ति स्त्रियों के बारे में इन बातों को जान लेता हैं तो वह स्त्रियों को समझ सकता हैं।

वैसे स्त्रियों के बारे में कहा जाता है कि इनके मन को पढ़ पाना हर किसी के लिए आसान नहीं होता। लेकिन स्त्री के बारे में इन बातों को जानना हर किसी के लिए जरूरी होता है। आज हम इस लेख में तुलसीदास जी के दवारा स्त्रियों के विषय में बताई गई कुछ बातें के बारे में बता रहें हैं।

तुलसीदास जी ने बताया है कि एक खूबसूरत स्त्री से मोहित होकर एक मूर्ख व्यक्ति अपने जीवन को बर्बाद कर लेता है। लेकिन एक समझदार व्यक्ति भी मूर्खों की तरह ही खूबसूरत स्त्री को देख कर उसके आगे पीछे घूमता है। लेकिन तुलसीदास जी कहते हैं कि कभी भी एक सुंदर स्त्री के पीछे नहीं भागना चाहिए, बल्कि उसके गुणों को तराशना चाहिए। उसके गुणों को देखना चाहिए।

तुलसीदास जी का मानना है कि जो व्यक्ति अपनी पत्नी और मां को छोड़कर संसार की सभी स्त्री को बहन की नजर से देखता है वह व्यक्ति साफ मन का होता हैं।
तुलसीदास जी कहते हैं कि धैर्य, मित्र, पत्नी और रिश्तेदार की पहचान हमेशा परेशानी के समय में होती है। इसीलिए किसी भी व्यक्ति को दूसरों के बल पर घमंड नहीं करना चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper