स्थापना दिवस पर बोले योगी आदित्यनाथ, भाजपा की यात्रा देश और दुनिया के लिए कौतूहल का विषय

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) बुधवार को अपना 42 वां स्थापना दिवस बड़ी धूमधाम से मना रही है। इस अवसर पर बुधवार को यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राजधानी स्थित कार्यालय में पार्टी का झंडा फहराया। इस दौरान प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव भी मौजूद रहे। योगी ने कहा कि कि भाजपा की यात्रा देश और दुनिया के राजनीतिक विश्लेषकों के लिए कौतूहल का विषय है। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भारतीय जनसंघ की स्थापना का उद्देश्य यही था कि हमें सत्ता की राजनीति नहीं, हमें भारत के लिए समर्पण का भाव पैदा करने वाले लोगों को एक राजनीतिक दल के रूप में आगे बढ़ाने का कार्य करना है। उन्होंने कहा कि भाजपा की यात्रा देश और दुनिया के राजनीतिक विश्लेषकों के लिए आश्चर्य का विषय है। ये यात्रा बहुत कुछ कह देती है।

योगी ने कहा कि सदी की सबसे बड़ी महामारी के दौरान 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन देने का काम मोदी सरकार ने किया है। इसी सदी की सबसे बड़ी महामारी में 135 करोड़ के जीवन को कैसे बचाना चाहिए, ये भी दिखाया और कहा कि नए भारत की नई तस्वीर देखने को मिल रही है। 2014 के बाद से लोगों ने देखा कि 3 करोड़ लोगों को घर मिला, 14 करोड़ लोगों को शौचालय मिला, 12 करोड़ किसान को किसान सम्मान निधि दी जा रही है। आयुष्मान भारत में निशुल्क इलाज की सुविधा मिल रही है।

वहीं स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि समर्पण और देशभक्ति का भाव किसी दूसरे दल में देखने को नहीं मिलेगा। भाजपा गठन के समय से ही लोकतांत्रिक व्यवस्था के रूप में चल रही है और कहा कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी, दीनदयाल ने इसके लिए बलिदान दिया है। भाजपा को पौधे के रूप में सींचा गया जो आज वटवृक्ष बनकर जनता की सेवा में लगा है। हमारा लक्ष्य है गरीबों को मुख्यधारा से जोड़ना। स्थपनाकाल से भाजपा ने बहुत सारे संघर्ष को झेला है। आज हमारे पार्टी के विचार, संस्कार और परिश्रम के कारण अपनी श्रेष्ठता की ओर अग्रसर है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper