स्मृति ने फिर साधा राहुल पर निशाना, कहा- क्या 15 मिनट में अमेठी की पंचायतों के नाम गिना सकते हैं युवराज?

अमेठी: पिछले लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी को कड़ी टक्कर देने वाली स्मृति ने आरोप लगाया कि नेहरू-गांधी परिवार ने अमेठी के विकास के लिए कुछ नहीं किया। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दी गई 15 मिनट बहस की चुनौती पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने पलटवार किया है। राहुल गांधी ने पीएम मोदी को राफेल डील पर 15 मिनट बहस की चुनौती दी थी। इस पर ईरानी ने राहुल को ही चुनौती देते हुए कहा, अगर वह चुनौती देना चाहते हैं, तो वह प्रधानमंत्री दफ्तर आ सकते हैं। वह बिना कागजात की मदद लिए देश के मुद्दों पर बोलें। अगर वह अमेठी की ग्राम पंचायतों के नाम भी गिना दें तो यह बड़ी बात होगी।

गौरतलब है, राहुल गांधी ने छत्तीसगढ़ में एक रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी को चुनौती देते हुए कहा था कि वे राफेल डील को लेकर उनके साथ बहस करें। उन्होंने कहा था कि पीएम मोदी राफेल डील पर उनके सवालों का जवाब नहीं दे सकते। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी अभी अमेठी दौरे पर हैं। पूर्व पीएम इंदिरा गांधी के वक्त से ही यूपी में अमेठी संसदीय सीट गांधी परिवार से जुड़ी रही है। इस संसदीय सीट पर स्मृति ईरानी की भी नजर है। साल 2014 के लोकसभा चुनाव में ईरानी ने राहुल गांधी के खिलाफ अमेठी से ही चुनाव लड़ा था, लेकिन वह जीत नहीं पाईं। लेकिन पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के इस किले को धराशायी करने में भाजपा कामयाब रही। अमेठी संसदीय सीट में आने वाली चार विधानसभा सीटों में से तीन पर भाजपा और एक पर समाजवादी पार्टी ने जीत हासिल की। वहीं, कांग्रेस के हिस्से में एक भी सीट नहीं आई।

34 वर्ष के बाद सिख दंगों के मामले में फैसला, एक को फांसी, दूसरे को आजीवन कारावास

साथ ही ईरानी ने कांग्रेस पर हमला करते हुए उसे एक ही परिवार के प्रति समर्पित पार्टी करार दिया। उन्होंने कहा कि यह दल देश का विकास नहीं कर सकता। स्मृति ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के संसदीय निर्वाचन क्षेत्र अमेठी में 77 करोड़ रुपये की विकास योजनाओं का उद्घाटन और लोकार्पण करने के बाद कहा कि कांग्रेस एक परिवार विशेष को समर्पित पार्टी है, तो वह अमेठी या देश का विकास कैसे करेगी। अमेठी के किसानों को केले के पौधे बांटने की राहुल की पहल पर कटाक्ष करते हुए केन्द्रीय कपड़ा मंत्री ने कहा कि राहुल पूरे देश में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आलोचना करते हैं, लेकिन वह केले के पौधे बांटकर खुद ही संघ के रास्ते पर चल रहे हैं।

उन्होंने कहा, मुझे पता चला है कि राहुल यहां केले के विदेशी पौधे लगाने जा रहे हैं। उन्हें हिन्दुस्तान में केले के पौधे नहीं मिले क्या। उन्हें पता होना चाहिए कि केले के एक-दो पौधे लगा देने से गरीबी दूर नहीं होगी। यह परिवार पिछले 60 साल में जो न कर सका, केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार ने चार साल में करके दिखा दिया। राहुल पिछले 15 साल से अमेठी से सांसद हैं लेकिन यहां एक बार भी रोजगार मेला आयोजित नहीं हुआ। मोदी सरकार ने ही इस मेले का आयोजन किया, जिसमें 7500 बेरोजगारों को रोजगार मिलेगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper