स्वामी ने फेक न्यूज़ को कैंसर बताया, कहा इसकी सर्जरी की जरूरत

दिल्ली ब्यूरो: भाजपा के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने फेक न्यूज को ‘कैंसर’ बताया है और कहा है कि समय रहते इसके सर्जरी की जरुरत है नहीं तो यह लोकतंत्र के लिए घातक हो सकता है। स्वामी कोलंबिया बिजनेस स्कूल में स्वामी साऊथ एशिया बिजनेस एसोसिएशन द्वारा आयोजित 14वें वार्षिक भारतीय व्यापार सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा, ‘फेक न्यूज एक तरह का कैंसर बन गया है और हमें कुछ तरह की सर्जरी करनी है। एक लोकतांत्रिक देश में संविधान द्वारा दी जाने वाली अभिव्यक्ति की आजादी और प्रदत्त रोक-टोक के बीच संतुलन होना चाहिए।

यही लकीर खींचना सरकारों के लिए एक बड़ी समस्या बन गयी है। ’उन्होंने कहा कि मीडिया अब सही मायने में मास मीडिया बन गया है। साइबर दुनिया ने तत्काल समाचार प्राप्त करना संभव बना दिया है, लेकिन तेजी से फैलने वाली विरोधाभासी सूचना पर नजर रख पाना बहुत मुश्किल है। स्वामी ने हाल ही में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के दिशा-निर्देश का भी हवाला दिया, जिसमें कहा गया था कि अगर इसकी पुष्टि हो जाती है कि उन्होंने गलत समाचार दिया है, तो उनकी मान्यता रद्द हो जायेगी. इस दिशा-निर्देश को बाद में वापस ले लिया गया था।

स्वामी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘सही उल्लेख किया’ कि इस संबंध में निर्णय लेने का अधिकार पहले ही भारतीय प्रेस परिषद को दिया गया है। उन्होंने कहा कि मीडिया में प्रतिस्पर्धा काफी ऊंचे स्तर पर पहुंच गया है। उन्होंने कहा कि उन्हें नहीं लगता है कि पत्रकार ‘नकारात्मकता’ के चलते फेक न्यूज चलाते हैं, बल्कि वे एक राजनेता के दुश्मनों के इशारे पर राजनेता को बदनाम करने के लिए इसे एक सही खबर के रूप में पेश करने के लिए प्रेरित होते हैं। स्वामी ने कहा कि फेक और गलत खबरों से एक परिष्कृत तरीके से निबटा जाना चाहिए नहीं तो आने वाले दिनों में इसके बूरे परिणाम सामने आएंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper