स्वामी प्रसाद मौर्य का भतीजा सपा में शामिल

लखनऊ: प्रदेशके श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य के सगे भतीजे प्रमोद मौर्य समेत कई नेता शनिवार को समाजवादी पार्टी में शामिल हो गये। श्री मौर्य प्रतापगढ़ के जिला पंचायत अध्यक्ष रह चुके हैं। इस मौके पर प्रतापगढ़ अपना दल के पूर्व जिला अध्यक्ष कामता प्रसाद व देवरिया में कैबिनेटमंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य के करीबी रहे कई नेताओं ने भी सपा की सदस्यता ग्रहणकी। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्षअखिलेश यादव ने इस मौके पर कहा कि सपा हर समाज के लोगों को जोड़ेगी। उनकी कोशिश है कि समाज के उपेक्षित वर्ग को ज्यादा से ज्यादा पार्टी में शामिल किया जाये।

जमीनी लोगों को बढ़ावा दिया जाये। सपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम ने बताया कि बसपा से एटा लोकसभा प्रभारी सत्यभान सिंह शाक्य, अमेठी के राहुल कुमार मौर्य, देवरिया के जिला युवा व्यापार मण्डल अध्यक्ष राजेन्द्र कुमार मौर्य, फैजाबाद मण्डल के पूर्व जोनल कोर्डिनेटर वीरेन्द्र कुमार मौर्य, इलाहाबाद जिला पंचायत सदस्य राधेश्याम सरोज, दशरथ मौर्या, मोदी विचार मंच के प्रदेश अध्यक्ष मनोज कुशवाहा और उनके सैंकड़ों समर्थक सपा में शामिल हुए हैं। सपा में शामिल होने के बाद प्रमोद कुमार मौर्य ने आरोप लगाया कि भाजपा में मौर्य समाज की उपेक्षा हो रही है।

उन्होंने कहा कि केशव प्रसाद नहीं, स्वामी प्रसाद मौर्य हैं मौर्य समाज के बड़े नेता। मगर भाजपा में उनकी भी उपेक्षा हो रही है। केशव प्रसाद मौर्य हमारे समाज के कभी नेता नहीं रहे। पिछले दिनों हुए निकाय चुनाव में केशव मौर्य के गृहनगर कौशाम्बी में ही भाजपा घट गयी। वह अपना सभासद व चेयरमैन नहीं जिता सके। उन्होंने कहा, ‘‘लोकसभा चुनाव के समय स्वामी प्रसाद मौर्य बसपा में थे। हम सभी भी बसपा में थे। तब मायावती ने स्वामी प्रसाद का अपमान किया तो मौर्य समाज ने उन्हें लोकसभा चुनाव में शून्य पर पहुंचा दिया’।

मौर्य ने कहा कि मायावती की नीतियों से आहत होकर स्वामी प्रसाद और उनके नेतृत्व में हम सभी ने भाजपा ज्वाइन किया। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य में सत्ता बनने के बाद से ही भाजपा में स्वामी प्रसाद के साथ ही मौर्य समाज की उपेक्षा होने लगी। समाज के लोगों की हत्या हो रही हैं। हमारे समाज के नेता स्वामी प्रसाद मौर्य भी इन हत्याओं से जुड़े अपराधियों पर कार्रवाई नहीं करा पा रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper