हथेली का ये निशान, इंसान को बना देता है धनवान, क्या आपकी हथेली पर है ये निशान

हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार किसी भी व्यक्ति के हाथों में जो लकीरें बनी होती है, वो उसके भविष्य का ही प्रतीक होती है। जी हां तभी तो ज्योतिष हाथ की लकीरों को देख कर भविष्यवाणी करते है और इंसान के भविष्य के बारे में बताते है। हालांकि हमारी हथेली पर लकीरों के इलावा कई निशान भी होते है और ये निशान भी व्यक्ति के भविष्य की तरफ ही इशारा करते है। गौरतलब है कि हथेली का ये निशान व्यक्ति को धनवान बना सकता है और अगर आपकी हथेली पर भी ऐसा निशान है तो आप सच में भाग्यशाली है।

अगर आपकी हथेली पर है ये निशान तो आप है भाग्यशाली:

हथेली का ये निशान

हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार अगर किसी व्यक्ति की हथेली पर त्रिकोण का निशान बना हो तो उस व्यक्ति के जीवन में धन लाभ का योग जरूर होता है। यहाँ गौर करने वाली बात ये है कि जिन लोगों की हथेली पर ऐसा निशान होता है, वे बड़ी आसानी से धनवान बनने का योग हासिल कर लेते है।

हथेली का ये निशान

गौरतलब है कि अगर हाथ की भाग्य रेखा पर किसी भी तरह का कोई अशुभ निशान न बना हो तो व्यक्ति बिज़नेस में सफल जरूर होता है। इसके इलावा शुभ सूर्य पर्वत से भी व्यक्ति के मान सम्मान में वृद्धि होती है और शुभ शनि पर्वत से व्यक्ति को जीवन में कई शुभ समाचार मिलते है।

हथेली का ये निशान

बता दे कि अगर किसी व्यक्ति की हथेली भारी, उँगलियाँ कोमल और लम्बी हो तो ऐसा व्यक्ति भी जीवन में खूब धन कमाता है। जी हां ऐसे व्यक्ति के जीवन में धन की कभी कोई कमी नहीं आती। इसके साथ ही अगर मध्यमा ऊँगली जिसके नीचे शनि पर्वत रहता हो, उस पर दो खड़ी रेखाएं हो तो व्यक्ति के जीवन में खूब सम्पन्नता और खुशियां आती है।

फ़िलहाल हथेली का ये निशान जो इंसान को धनवान बना सकने में सक्षम है अगर वो आपकी हथेली में भी है तो आपको जीवन में कामयाबी जरूर मिलेगी ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper