हम धरतीपुत्र हैं, सबको साथ लेकर ही आगे बढ़ सकते हैं: मोदी

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना के 75वें साल में आर्थिक और सामाजिक परिषद के सत्र को संबोधित किया. शुक्रवार को यूएन में अपने संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जिक्र किया, तो भारत सरकार की ओर से जन-जीवन की बेहतरी के लिए चलाई जा रही योजनाओं का भी जिक्र किया.

पीएम मोदी ने दुनिया को एकजुटता का संदेश भी दिया. पीएम मोदी ने कहा कि हम धरतीपुत्र हैं, सबको साथ लेकर ही आगे बढ़ सकते हैं. उन्होंने कहा कि भारत का दृढ़ता से यह मानना है कि स्थायी शांति और समृद्धि बहुपक्षवाद के माध्यम से ही आ सकती है. पीएम मोदी ने कहा कि हमें धरतीपुत्र होने के नाते चुनौतियों का सामना करने और अपने लक्ष्य प्राप्त करने के लिए हाथ मिलाना चाहिए.

पीएम मोदी ने बहुपक्षवाद के बहाने संयुक्त राष्ट्र संघ में सुधार की भी वकालत की. पीएम मोदी ने कहा कि समकालीन दुनिया की वास्तविकता का प्रतिनिधित्व करने की आवश्यकता है. उन्होने भारत में चुनौतियों से निपटने के लिए सरकार की ओर से चलाई जा रही योजनाओं की भी चर्चा की और कहा कि हम ‘सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास’ को आधार बनाकर काम कर रहे हैं.

पीएम मोदी ने कोरोना संकट पर भी बात की और कहा कि हमने कोरोना संकट से निपटने के अभियान को जन आंदोलन बना दिया. पीएम मोदी ने कहा कि हम चुनौतियों का मुकाबला मिलजुलकर ही कर सकते हैं. हमने चुनौतियों का मुकाबला किया और विकासशील देशों की मदद भी कर रहे हैं. पीएम मोदी ने कहा कि भारत ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई के लिए सार्क कोविड फंड बनाया. भारत में कोरोना का रिकवरी रेट भी बेहतर है. पीएम मोदी ने कहा कि भारत आज हर क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रहा है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper