हरियाणा के चार जिलों में स्‍कूल बंद, जानिए क्यों

चंडीगढ़: एनसीआर में प्रदूषण के मद्देनजर हरियाणा सरकार ने प्रदेश के चार जिलों गुरुग्राम, फरीदाबाद, सोनीपत और झज्जर में अगले आदेश तक स्कूल बंद कर दिए हैं। पहले भी इन चारों जिलों में स्कूलों को बंद किया गया था, लेकिन प्रदूषण की स्थिति सामान्य होने के बाद उन्हें खोल दिया गया था। पर्यावरण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव की ओर से जारी आदेशों में स्कूल बंद करने को कहा गया है। एनजीटी की ओर से प्रदूषण को कम करने के लिए राज्य सरकारों को हिदायतें दी गई हैं। इस कड़ी में हरियाणा के पर्यावरण विभाग ने एनसीार में पड़ने वाले प्रदेश के सभी 14 जिलों में निर्माण कार्य बंद कर दिए हैं, ताकि उनसे उड़ने वाली धूल की वजह से प्रदूषण न बढ़े। पर्यावरण विभाग ने अपने आदेश में स्प्ष्ट किया है कि इन जिलों में प्लंबर, मकानों की आंतरिक सज्जा, बिजली और बढ़ई के काम जारी रहेंगे। इन कामों के करने से प्रदूषण नहीं फैलेगा।

उद्यमियों को उत्पादन में नुकसान न हो, इसलिए नियमित बिजली आपूर्ति के दिए आदेश
प्रदेश सरकार ने एनसीआर के 14 जिलों में डीजल के जेनरेटर सेट चलाने पर भी पाबंदी लगा दी है। साथ ही विभाग विभाग को निर्देश दिए हैं कि इन सभी जिलों में बिजली आपूर्ति बाधित नहीं होनी चाहिए। जेनरेटर बंद होने से किसी उद्यमी अथवा दुकानदार का कामकाज प्रभावित नहीं हो पाए। बता दें कि हरियाणा में प्रदूषण के कारण बुरी हालत है। हरियाणा के अधिकतर शहरों खासकर एनसीआर के शहरों में प्रदूषण का स्‍तर फिर बढ़ गया है। इससे पहले भी गुरुग्राम और फरीदाबाद सहित एनसीआर के शहरों में स्‍कूूलों को बंद कर दिया गया था। इसके बाद 1 दिसंबर को स्‍कूूल खुले थे, लेकिन प्रदूषण का स्‍तर फिर चिंताजनक हालत में पहुंच जाने के बाद हरियाणा सरकार ने स्‍कूलों को बंद करने का फैसला किया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper