हर्बल उत्पादों का अधिक सेवन सेहत के लिए हो सकता है घातक

कुछ हर्बल उत्पादों का अत्यधिक मात्रा में उपयोग करने से हानिकारक दुष्प्रभाव हो सकते हैं। कैनेडियन मेडिकल एसोसिएशन जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक हर्बल उत्पादों के भी हानिकारक प्रभाव हो सकते हैं। इस बात की तसदीक उस वक्त हुई जब कनाडा में एक व्यक्ति मुलैठी की जड़ से बनी होममेड चाय के अत्यधिक सेवन के बाद हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत लेकर अस्पताल पहुंचा।

कनाडा स्थित मैकगिल विश्वविद्यालय की प्रोफेसर जेन-पियरे फैलेट का कहना है कि कुछ हर्बल उत्पादों का अत्यधिक मात्रा में सेवन से हानिकारक दुष्प्रभाव हो सकते हैं । इसके अलावा मुलैठी की जड़ से बने उत्पाद रक्तचाप बढ़ा सकते हैं, जिससे सिरदर्द और सीने में दर्द की शिकायत हो सकती है।

उन्होंने कहा, “मुलैठी की जड़ वाले उत्पाद ब्लड प्रेशर बढ़ा सकते हैं, जिससे शरीर में पानी की कमी हो सकती है। और अगर इसका अधिक मात्रा में सेवन किया जाए तो बॉडी में मौजूद पोटेशियम का स्तर भी कम हो सकता है।”

शोधकर्ताओं के मुताबिक, कनाडा में रहने वाले 84 वर्षीय नागरिक में उच्च रक्तचाप की शिकायत मुलैठी की जड़ से बनी होममेड टी पीने के बाद पाई गई। उनका रक्तचाप गंभीर रूप से बढ़ता गया और उन्हें सिरदर्द, हाथ-पैरों में झननाहट, सीने में दर्द, थकान और अन्य की तरह की परेशानियां होने लगीं।

हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत
अध्ययन के मुताबिक, अस्पताल में भर्ती होने और उपचार किए जाने के बाद मरीज ने डॉक्टरों को बताया कि वह पिछले दो सप्ताह से रोजाना एक से दो गिलास मुलैठी की जड़ से बनी होममेड टी पी रहा था। मरीज को पहले से ही हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत रहती थी।

मुलैठी की जड़ से बनी चाय मध्यपूर्व और यूरोप के कुछ हिस्सों में बेहद ही मशहूर है और रमजान के दौरान मिस्र में इस चाय का अत्यधिक मात्रा में सेवन किया जाता है क्योंकि विशेषकर इन दिनों में ही लोग इसे ज्यादा पीते हैं।

शोधकर्ताओं ने अध्ययन में पाया कि वे मरीज, जिनमें ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करना पाना मुश्किल है और वे लगातार मुलैठी की जड़ का सेवन कर रहे हैं, डॉक्टरों को उनकी स्क्रीनिंग पर विचार करना चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper