हर किरदार ने उन्हें कुछ न कुछ सिखाया: विद्या बालन

मुंबई: बालीवुड की ‎बिंदास एक्ट्रेस ‎विदया बालन का कहना है ‎कि अब तक उनके द्वारा निभाए गए हर किरदार ने उन्हें शिक्षित किया है और उनके लिए कुछ बदला है। अपने दमदार अभिनय और भूमिकाओं से दर्शकों को हमेशा मंत्रमुग्ध करने वाली अभिनेत्री विद्या बालन ने इस बारे में खुल कर बात की है।

उनकी नवीनतम रिलीज ‘शेरनी’ में उन्होंने एक ईमानदार वन अधिकारी की भूमिका निभाई हैं, जो पितृसत्तात्मक समाज द्वारा निर्धारित सामाजिक बाधाओं और अपने विभाग के भीतर अभावग्रस्त रवैये से जूझ रही है। यह पूछे जाने पर कि क्या वह अपने चरित्र से कुछ हासिल करती हैं या वे उन्हें किसी भी तरह से शिक्षित करते हैं, विद्या ने कहा, “हां बिल्कुल। यह ऐसा है जैसे आप किसी अन्य व्यक्ति के साथ बातचीत करने के बाद हमेशा कुछ वापस पाते हैं। यह वही है। आप इस व्यक्ति के रहते हैं। डेढ़ महीने या दो या शायद अधिक के लिए जीवन क्योंकि आप उससे पहले तैयारी शुरू कर देते हैं। 42 वर्षीय अभिनेत्री का कहना है कि किसी किरदार से प्रभावित नहीं होना मुश्किल है।

उन्होंने निष्कर्ष निकाला कि, “इसलिए, मैं लगभग चार महीने तक एक ही किरदार के साथ रहती हूं। इसलिए, उस चरित्र को आप पर प्रभाव नहीं पड़ने देना मुश्किल है। मुझे लगता है कि कभी-कभी, आप यह स्पष्ट कर सकते हैं कि पात्रों ने आपके जीवन को कैसे छुआ या आपको बदल दिया और कभी-कभी आप नहीं कर सकते मेरे लिए यह हमेशा बदलता रहता है।”

बता दें ‎कि उन्होंने 2005 में ‘परिणीता’ के साथ बॉलीवुड में अपनी शुरूआत की, विद्या ने ‘भूल भुलैया’, ‘नो वन किल्ड जेसिका’, ‘द डर्टी पिक्च र’, ‘पा’, ‘कहानी’, ‘इश्किया’, ‘मिशन मंगल’, ‘तुम्हारी सुलु’ और ‘शकुंतला देवी’ जैसी फिल्मों में अपने गतिशील चित्रण के साथ प्रशंसकों का मनोरंजन किया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper