हर जरूरतमंद को भरण पोषण भत्ता व मुफ्त राशन देगी योगी सरकार, अफसरों को कार्ययोजना बनाने के निर्देश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार ने कोविड-19 से उत्पन्न परिस्थितियों का सामना कर रहे जरूरतमंद लोगों को भरण-पोषण भत्ता देने की तैयारी फिर शुरू कर दी है। आवश्यकता के अनुसार लोगों को निशुल्क राशन भी देने की योजना है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को उच्चस्तरीय बैठक में शासन के वरिष्ठ अधिकारियों को इस संबंध में कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए हैं।

सीएम ने कहा कि प्रदेश सरकार हर नागरिक के जीवन और जीविका के लिए प्रतिबद्ध है। मौजूदा हालात में लोगों को कोई असुविधा न हो, इसके लिए सभी जरूरी प्रयास किए जाएं। गत वर्ष अंत्योदय, पात्र गृहस्थी, प्रवासी मजदूरों, मनरेगा श्रमिकों, पटरी दुकानदारों आदि को निशुल्क राशन उपलब्ध कराया गया था। पंजीकृत व गैर पंजीकृत श्रमिकों, स्ट्रीट वेंडर, पल्लेदार व कुली आदि को भरण-पोषण भत्ता दिया गया था। उन्होंने इस विवरण को अपडेट करने और जरूरतमंदों को हर संभव मदद करने के लिए कार्ययोजना बनाएं। पिछले वर्ष कोविड काल में भरण-पोषण भत्ता व राशन की सहायता लोगों के लिए बड़ा संबल था। इस वर्ष भी सभी श्रमिकों, गरीब परिवारों को वित्तीय सहायता और राशन प्रदान किया जाएगा।

क्वारंटीन सेंटरों में चाक-चौबंद व्यवस्था करें
मुख्यमंत्री ने कोरोना के बढ़ते प्रसार को ध्यान में रखते हुए दूसरे प्रदेशों से पलायन कर रहे प्रवासी मजदूरों की जरूरतों की पूर्ति के आदेश भी दिए हैं। महाराष्ट्र, दिल्ली समेत दूसरे राज्यों से पलायन कर आ रहे मजदूरों के लिए क्वारंटीन सेंटरों में सभी सुविधाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। क्वारंटीन सेंटरों में चिकित्सीय सुविधाओं के साथ खाने-पीने की पर्याप्त व्यवस्था करने को कहा गया है। सीएम को बताया गया कि शुक्रवार तक 60 जिलों में ऐसे क्वारंटीन सेंटर सक्रिय कर दिए गए हैं।

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper