हिंदू जागरण मंच का विवादित बयान, अगले एक साल में 21 सौ मुस्लिम लड़कियों का कराएंगे धर्मांतरण

लखनऊ: लव जिहादियों को सबक सिखाने के लिए अगले एक वर्ष में 21 सौ मुस्लिम लड़कियों से हिंदू युवकों के विवाह कराए जाएंगे। यह विवादित बयान हिंदू जागरण बहू बेटी आयाम की प्रदेश अध्यक्ष अज्जू चौहान ने दिया है। उन्होंने कहा कि जो बेटियां हिंदू बनेंगी, उनकी देखभाल हिंदू जागरण मंच करेगा।

बता दें कि केरल के कथित लव जिहाद मामले के बाद से ही लव जिहाद एक बार फिर चर्चा में है। हाल ही में सुप्रीम कोर्ट में इसी मामले को लेकर हदिया की पेशी हुई थी। अखिला अशोकन से हदिया बनने के मामले में कहा है कि वह अपनी आजादी चाहती है। उसका पति उसकी देखभाल करने में सक्षम है। पति के साथ रहकर वह अपनी पढ़ाई जारी रखना चाहती है। इस मामले की अगली सुनवाई आगामी जनवरी के महीने में होगी। कोर्ट ने उससे पूछा था, क्या आप राज्य सरकार के खर्च पर पढ़ाई जारी रखना चाहती हैं? आपके सपने क्या हैं?’ इस पर हदिया ने कहा, मैं अपने पति से मिलना चाहती हूं।

अपनी पढ़ाई जारी रखना चाहती हूं, लेकिन राज्य सरकार के खर्चे पर नहीं। मेरा पति मेरी देखभाल करने में सक्षम है। हदिया का यह बयान हिंदू जागरण मंच को नागवार गुजरा है। अज्जू चौहान का बयान इसी के बाद आया है। गौरतलब है कि लव जिहाद दो शब्दों से मिलकर बना है। यह अंग्रेजी भाषा के शब्द लव यानी प्यार और अरबी भाषा के शब्द जिहाद से मिलकर बना है। जब एक धर्म विशेष को मानने वाले दूसरे धर्म की लड़कियों को अपने प्यार के जाल में फंसाकर उस लड़की का धर्म परिवर्तन करवा देते हैं, तो इस पूरी प्रक्रिया को लव जिहाद कहा जाता है। अब तक लव जिहाद शब्द को कानूनी मान्यता प्राप्त नहीं थी।

लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट ने भी मान लिया है कि लव जिहाद होता है और मुस्लिम युवक हिंदू लड़कियों को अपने प्यार के जाल में फंसाकर उनका धर्म परिवर्तन कराते हैं। इसकी शुरुआत तब हुई, जब केरल हाईकोर्ट ने 25 मई को हिंदू महिला अखिला अशोकन की शादी को रद्द कर दिया था। उसने दिसंबर-2016 में मुस्लिम शख्स शफीन से निकाह किया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper