हिन्दू -हिन्दू रटने वाले तोगड़िया अब केंद्र के निशाने पर

दिल्ली ब्यूरो: प्रवीण तोगड़िया अब केंद्र के निशाने पर हैं। ऐसी गवाही तोगड़िया खुद देते फिर रहे हैं। पिछले दो दिनों से तोगड़िया को लेकर कई कहानी चल रही है। गुजरात से पहले गायब होने की खबर आयी। खबर ये भी आयी कि राजस्थान पुलिस उन्हें किसी मामले में तलाश रही है। फिर पता चला कि तोगड़िया बेहोशी की हालत में पाए गए। लेकिन आज तोगड़िया फिर से मीडिया के सामने उदित हो गए। मीडिया को सम्बोधित करते हुए तोगड़िया ने कहा ”सालों से मैं हिंदुओं की आवाज उठाता रहा हूं और हिंदू एकता के लिए प्रयास करता रहा हूं।

राम मंदिर, गोहत्या पर पाबंदी जैसे मुद्दों को मैं हिंदुओं की तरफ से उठाता रहा, लेकिन कुछ समय से मेरी ये आवाज दबाने की कोशिश की जा रही है। मैंने देश में 10 हजार डॉक्टर बनाए और सेंट्रल आईबी ने उनके घरों पर जाकर डराना शुरू किया। मैंने केंद्र सरकार को इस संबंध में पत्र भी लिखा, लेकिन आज तक उसका कोई जवाब नहीं आया। कल (सोमवार) मैं कार्यालय में था और मेरे मोबाइल पर फोन आया कि 16 पुलिस स्टेशन से राजस्थान पुलिस का काफिला आ रहा है और गुजरात पुलिस भी उन्हें सहयोग कर रही है।

मैंने राजस्थान की सीएम और गृह मंत्री को फोन किया तो उन्होंने कहा ऐसी कोई जानकारी नहीं है। जबकि आज सुबह क्राइम के चीफ ने मुझे बताया कि राजस्थान पुलिस ही उनकी गिरफ्तारी के लिए आई थी। राजस्थान की मुख्यमंत्री, गृह मंत्री और आईजी को पुलिस आने की जानकारी नहीं थी। इसका मतलब ये सब किसके इशारे पर हो रहा है।”

विश्व हिंदू परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने अहमदाबाद में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जब ये बड़े खुलासे कर रहे थे तब मीडिया भी सन्न थी। कल तक जिस प्रवीण तोगड़िया के जरिये बीजेपी अपनी हिन्दू वाली राजनीति को परवान चढाती थी आखिर आज क्यों प्रवीण सरकार विरोधी बयान दे रहे हैं ? सवाल कई और भी उठ रहे थे। कुछ पत्रकारों को रहा नहीं गया और पूछ ही लिया कि आपको कौन डरा रहा है और आप किसके निशाने पर हैं ? तोगड़िया सीधा जबाब नहीं दिए। केवल इतना भर कहा कि केंद्रीय जांच एजेंसियां और आई बी उन्हें डरा रही है। जाहिर है तोगड़िया ने खुफिया एजेंसी की आर में सीधे तौर पर केंद्र सरकार को निशाने पर लिया।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में तोगड़िया रोये भी। कई दावे भी किये। सारे दावे सीधे तौर पर केंद्र की मोदी सरकार की आलोचना माने जा रहे हैं। साथ ही उन्होंने राम मंदिर और हिंदुओं की आवाज उठाने के लिए परेशान किए जाने की साजिश का भी आरोप लगाया। जब प्रवीण तोगड़िया से पूछा गया कि उनके खिलाफ कौन साजिश कर रहा है तो उन्होंने कहा कि वो समय आने पर सबूतों के साथ इसका खुलासा करेंगे।

समझ से परे है कि हिन्दू और राम मंदिर की राजनीति करने वाले तोगड़िया आज रो रहे हैं। पछता भी रहे हैं और डर भी रहे हैं। क्या माना जाय कि बदलती राजनीती में अब तोगड़िया की कोई जरुरत नहीं रह गयी ? क्या यह भी माना जाय कि मोदी और शाह की राजनीति तोगड़िया को रास नहीं आ रही है ? और क्या यह भी मान लिया जाय कि मोदी और शाह की राजनीती में तोगड़िया कही फिट नहीं बैठ रहे हैं और बीजेपी की राजनीती उनका पर क़तर देना चाहती है। कुछ भी संभव हो सकता है।

प्रवीण तोगड़िया अपने पूरे बयान में सेंट्रल आईबी शब्द का इस्तेमाल करते रहे. साथ ही ये भी कहते रहे कि राजस्थान और गुजरात पुलिस से मुझे कोई शिकायत नहीं है. यानी वो अपने पूरे बयान में सेंट्रल आईबी के नाम से केंद्र की मोदी सरकार को घेरते रहे. हालांकि, उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper