हे मोदी जी! एसएससी के परीक्षा के जरिए देश में बड़ा घोटाला होता दिख रहा है, कुछ कीजिए

दिल्ली ब्यूरो: गजब का खेल है। सरकारी नौकरी के लिए जितनी परीक्षाएं हो रही है अधिकतर चीटिंग की शिकार है और युवा परेशान। लगता है पूरा सरकारी महकमा ही इस खेल से जुड़ा है और सब माल खाने कमाने में जुटे हुए हैं। प्रधानमन्त्री मोदी युवाओं का अक्सर आह्वान करते है कि युवा ही देश का विकास कर सकते हैं लेकिन युवा परीक्षा में चल रहे फर्जीवाड़े से अब हार चुके हैं।

खबर है कि केंद्र के सरकारी विभागों में स्टाफ की भर्ती करने वाले सबसे बड़े परीक्षा एसएससी यानि स्टाफ सेलेक्शन कमीशन पर पेपर लीक करने का आरोप लगा है। हजारों छात्र जिन्होंने इस परीक्षा का पहले भाग यानि टियर 1 कि परीक्षा 2017 में दी थी, अब दिल्ली में एसएससी ऑफिस के बाहर प्रदर्शन कर रहें हैं। दो दिन से प्रदर्शन पर बैठे छात्रों की मांग है कि एसएससी के निर्देशक बाहर आकर उनसे बात करें ताकि उनके जो भी मसले है वो सुलझ सके। छात्र ये भी मांग कर रहें है कि परीक्षा को रद्द किया जाए और इस मामले कि सीबीआई जांच कराइ जाए। ताकि सालों से मेहनत कर रहे छात्रों के साथ धोखा ना हो।

दरअसल एसएससी के दूसरे भाग यानि टियर 2 कि परीक्षा 17 से 21 फरवरी के बीच हुई जिसमें बड़े स्तर पर धांधली सामने आई। पेपर लीक और इन्टरनेट के जरिये कहींऔर से परीक्षा देने कि खबर सामने आई थी। एसएससी पर लगे आरोपों से सवाल उठते हैं कि आखिर इतनी कड़ी चेकिंग के बावजूद परीक्षा में चीटिंग कैसे हो गई। आपको बता दें, एसएससी अपने एग्जाम्स में छात्रों को उनका पेन तक सेंटर के अंदर नहीं ले जाने देता है। बेल्ट, जूते, पर्स सब निकलवा दिए जाते हैं। यहां तक कि फुल शर्ट तक नहीं पहनने दिया जाता। केवल एडमिट कार्ड और आई कार्ड के साथ छात्र अंदर जाते हैं।

दरअसल टियर 2 की परीक्षा बहुत दिनों से टाली जा रही थी। छात्रों को तभी शक हो चुका था कि कुछ गड़बड़ जरुर है। फिर 21 फरवरी को मैथ्स के पेपर का आंसर की सोशल मीडिया पर वायरल हो गए। जिसके बाद 10:30 बजे शुरू होने वाली परीक्षा का समय बदला कर 12:30 बजे किया गया। मामला तब बिगड़ा जब 23 फरवरी को एसएससी ने एक नोटिफिकेशन जारी कर बताया कि 21 फरवरी को हुआ मैथ्स का पेपर रद्द किया जाता है और उसे 9 मार्च को वापस करवाया जायेगा। इस बात से छात्रों में गुस्सा भर गया उनका शक यकीन में बदल गया। वो दुबारा परीक्षा देने के लिए बिलकुल नहीं माने। छात्रों का कहना है कि इसकी क्या गारंटी है कि दुबारा आंसर की लीक नहीं होगी। छात्रों का आरोप है कि एसएससी के परीक्षा के जरिए देश में बड़ा घोटाला हो रहा है। नौकरियां लाखों-करोड़ों में बेची जा रही हैं।

आपको बता दें एसएससी परीक्षा से ग्रुप बी ऑफिसर्स की भर्ती होती है। इनकम टैक्स इंस्पेक्टर, कस्टम के इंस्पेक्टर, एक्साइज इंस्पेक्टर, नारकोटिक्स के इंस्पेक्टर इसी परीक्षा से चुने जाते हैं। हर साल इसके जरिए 10 से 12 हजार पद भरे जाते हैं। मगर इस बार इस परीक्षा में घोटाला सामने आने के बाद छात्रों ने बवाल किया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper