होटल अग्निकांड: होटल मालिक पुलिस की पकड़ से दूर, कोर्ट ने जारी किया वारंट

लखनऊ: राजधानी लखनऊ के चारबाग स्थित दो होटल एसएसजे इंटरनेशनल और विराट इंटरनेशनल होटल में लगी आग में सात लोगों के जिंदा जलने की घटना के बाद फरार चल रहे दोनों होटल मालिकों को पुलिस अभी तक गिरफ्तार नहीं कर सकी है। कोर्ट ने इनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है।

लखनऊ के घनी आबादी इलाके में स्थित दो होटल एसएसजे इंटरनेशनल और विराट इंटरनेशनल होटल में आग लग गई थी। इसमें सात लोग जिंदा जलकर मर गए थे, जबकि चार लोग गंभीर रूप से झुलस गए थे। मजिस्ट्रेटी जांच में पाया गया कि होटल में आग बुझाने के पर्याप्त साधन नहीं थे। इसके बाद होटल को सीज करने के लिए जिलाधिकारी को अपनी रिपोर्ट दी। वहीं, इस घटना के बाद दोनों होटल के मालिक सुरेंद्र जायसवाल और अर्पित जायसवाल फरार चल रहे हैं। पुलिस द्वारा इनकी गिरफ्तारी न होने पर कोर्ट ने गैर जमानती वारंट जारी किया है।

इस दर्दनाक घटना के बाद जिला प्रशासन सहित अन्य विभाग की नींद खुल गई। जांच में यह पाया गया कि घर का नक्शा पास कराकर वहां पर इन्टरनेशनल एसएसजे होटल बना दिया गया है, जबकि विराट होटल का कोई भी नक्शा पास नहीं था, न ही उसके पास फायर विभाग की एनओसी थी। राजधानी के चारबाग इलाके में महज डेढ़ किलोमीटर के दायरे में 450 से ज्यादा होटल हैं, जिनमें से 150 अवैध बताए जाते हैं।

इसके बाद जिला प्रशासन ने ऐसे होटलों के खिलाफ अभियान चलाना शुरू कर दिया। शुरुआती दौर में अभी तक जिला प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए होटल मेट्रो, कावेरी, संजय लॉज और अमित लॉज सहित छह होटलों को सीज कर दिया है, जबकि इससे पहले होटल मेघा और शक्ति लॉज सीज हो चुका है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper