10 लाख से अधिक कामगारों एवं श्रमिकों के लिए रोजगार के अवसर सृजित करें: योगी आदित्यनाथ

लखनऊ। मुख्यमंत्री ने योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों से कहा कि 10 लाख से अधिक कामगारों एवं श्रमिकों के लिए रोजगार के अवसर सृजित करें। इस दिशा में आगामी 6 माह की अवधि में प्रथम चरण की कार्य योजना बनाएं। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि प्रदेश में कोरोना से होने वाली मृत्यु दर को कम करें। इस दिशा में जिस भी मरीज में हल्का सा भी लक्षण मिले उसका तुरंत उपचार किया जाए। हलांकि उत्तर प्रदेश की मृत्यु दर देश के अन्य राज्यों से जनसंख्या और संख्या की दृष्टि से काफी कम है।

उक्त जानकारी बुधवार को अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी ने लोकभवन में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस के दौरान दी। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीम-11 की बैठक में प्रदेश में आईं ट्रूनेट मशीनों के संबंध में चर्चा की। उन्होंने बताया कि सभी 75 जनपदों में चिकित्सा विभाग द्वारा विभिन्न अस्पतालों एवं मेडिकल कॉलेज में सिंगल स्लॉट, डबल स्लॉट और फोर्थ स्लॉट की मशीन उपलब्ध करा दी गई हैं।

अपर मुख्य सचिव गृह ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा कि चिकित्सा शिक्षा मंत्री और चिकित्सा मंत्री नॉन कोविड अस्पतालों एवं चिकित्सा संस्थानों की व्यवस्था को और मजबूत करने के लिए सभी अस्पतालों से संवाद बनाएं। संबंधित विभागों के प्रमुख सचिव को निर्देशित करते हुए उन्होंने कहा है कि अस्पतालों में इमरजेंसी सुविधाओं की व्यवस्थित करें, जिससे किसी मरीज को अपातकालीन स्थिति में इंतजार न करना पड़े।

अपर मुख्य सचिव गृह ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि मंडियों को एक्सपोर्ट के हब के रूप में विकसित किया जाए, जिससे पैरेशिबल आइटम्स को विदेशों में भेजा जा सके। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने पब्लिक एड्रेस सिस्टम को प्रदेश में और मजबूत करने का निर्देशि दिया है। साथ ही उन्होंने कहा है कि कंटेनमेंट जोन को लेकर जो नियम बनाए गए हैं, उनका कड़ाई से पालन कराया जाए।

प्रदेश के 75 जनपदों में कोरोना के 4318 एक्टिव केस: प्रमुख सचिव स्वास्थ्य

इसी प्रेस कॉन्फ्रेंस में प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश के 75 जनपदों में 4318 कोरोना के एक्टिव केस हैं। इसके अलावा 277 नए केस सामने आए हैं। उन्होंने बताया कि अब तक 6971 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं। वहीं अब तक 321 संक्रमित मरीजों की मौत हो चुकी है। उन्होंने बताया कि कल 13,264 सैंपल की जांच की गई है, जो अब तक सबसे ज्यादा है। प्रदेश में अब तक 4 लाख 4 हजार 637 सैम्पल की जांच की जा चुकी है और पॉजिटिविटी रेट 2.87 प्रतिशत है। पूल टेस्टिंग के माध्यम से 1082 पूल 5-5 सैम्पल के और 88 पूल 10-10 सैम्पल लगाए गए थे, जिनकी जांच की गई। आरोग्य सेतु ऐप का हम निरंतर उपयोग कर रहे हैं। इस ऐप से जिन लोगों को अलर्ट जनरेट हुआ है। ऐसे 71,736 लोगों को स्टेट कंट्रोल रूम से कॉल के माध्यम से संपर्क किया जा चुका है।

प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य बताया कि आशा वर्कर्स द्वारा अब तक 14 लाख 72 हजार 520 कामगारों/श्रमिकों से उनके घर पर जाकर सम्पर्क किया गया, जिनमें से 1400 से अधिक लोगों में कोरोना जैसे लक्षण पाये गये हैं। कामगारों/श्रमिकों ने अपने सामाजिक दायित्व का निर्वहन करते हुए होम क्वारंटाइन का पालन दृढ़ता से किया है, जिसके कारण ग्रामीण क्षेत्र में संक्रमण नहीं फैला है। ग्राम एवं मोहल्ला निगरानी समितियों के द्वारा निगरानी का कार्य सक्रियता से किया जा रहा है। 16,367 क्षेत्रों में 1 लाख 14 हजार 109 सर्विलांस टीमों के माध्यम से 87 लाख 4 हजार 395 घरों के 4 करोड़ 43 लाख 27 हजार 719 लोगों का सर्वेक्षण किया जा चुका है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper