108 सेवा का बिस्तर, जल्द बढ़ेंगी 812 एम्बुलेंस और

लखनऊ। अब प्रदेशवासियों को और तत्काल स्वास्य सुविधाएं दिलाने के लिए 108 एम्बुलेंस सेवा का विस्तार होने जा रहा है। अगले वित्तीय वर्ष से 812 एम्बुलेंस की संख्या बढ़ायी जाएगी, इसमें 100 एडवांस लाइफ सपोर्ट (एएलएस) वाली होंगी। शहरों में 108 एम्बुलेंस सेवा कॉल करने पर बीस मिनट सुविधा मुहैया कराने के दावे किये जाते हैं, जिसे 15 मिनट के भीतर एम्बुलेंस पहुंचाने की तैयारी चल रही है, जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में तीस मिनट के भीतर पहुंचेगी।

यह जानकारी सेवा प्रदाता संस्था जीवीके ईएमआरआई (यूपी) के चीफ ऑपरेटिंग ऑफीसर जीतेन्द्र वालिया ने दिया। उन्होंने बताया कि वर्तनाम में इस सेवा के तहत 1488 एम्बुलेंस संचालित हैं। जीवीके ईएमआरआई के द्वारा 108 आपातकालीन सेवाओं का संचालन उत्तर प्रदेश सहित देश के 14 राज्यों और 2 केंद्र शासित प्रदेशों में किया जा रहा है। कुल मिलाकर 13,000 के करीब हैं। इसके अलावा श्रीलंका में 120 एम्बुलेंस के साथ हुई है। उन्होंने बताया कि 108 एम्बुलेंस सेवा के अन्तर्गत प्रदेश में एएलएस एम्बुलेंस सेवा का भी संचालन हो रहा है।

इस सेवा के तहत वर्तमान में प्रदेश में 150 एम्बुलेंस संचालित हो रही हैं। उत्तर प्रदेश सरकार की पहल पर यह सेवा बीते वर्ष 14 अप्रैल को लखनऊ से शुरू हुई थी। हर जिले को दो एएलएस एम्बुलेंस दी गयी हैं। इस सेवा की खास बात यह है कि नयी दिल्ली से सटे करीब दो सौ किलोमीटर के गंभीर मरीजों का इस सेवा के तहत एम्स सहित नयी दिल्ली के अन्य सरकारी अस्पातलों व पीजीआई चंडीगढ़ तक ले जाकर भर्ती कराने की सुविधा है, जो कि मरीजों के लिए पूरी तरह से नि:शुल्क है। संचालन शुरू होने से गत 15 जनवरी तक 24,314 गंभीर मरीजों को उच्च अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper