फर्जी बाबाओं से सावधान ! आज जारी होगी ठग बाबाओं की चौथी सूची

दिल्ली ब्यूरो: देश और धर्म को बदनाम करने पर तुले फर्जी बाबाओं को चिन्हित किया जा रहा है। इलाहाबाद में आज फिर से अखाड़ा परिषद् की बैठक चल रही है जिसमे कुम्भ मेले की तैयारी से लेकर फर्जी बाबाओं को चिन्हित करने को लेकर है। माना जा रहा है कि देश में बहुत सारे फर्जी बाबा बने लोगों को ठग रहे हैं और धर्म के विरुद्ध काम भी कर रहे हैं। पिछले दिनों की कुछ घटनाओ के बाद अखड़ा परिषद् फर्जी बाबाओ से मुक्त होने के लिए कई तरह के उपाय कर रहा है।

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने बताया है कि बैठक में फर्जी बाबाओं के नाम पर सभी अखाड़ों की सहमति बनी तो उनके नाम सार्वजनिक करते हुये फर्जी बाबाओं की चौथी लिस्ट जारी की जा सकती है। इसके अलावा निर्मल अखाड़ा में शुरु हो चुकी बैठक में कुंभ 2019 के कार्यों को लेकर चर्चा होगी। उन्होंने बताया कि इसके साथ ही शहर में कुंभ को लेकर होने वाले विकास कार्यों पर चर्चा की जायेगी, साथ ही कुंभ को लेकर अखाड़ों के स्थायी निर्माण को लेकर चर्चा होगी। वहीं इस बैठक में फर्जी बाबाओं के मुद्दे पर भी चर्चा होगी ताकि कुम्भ मेले में ऐसे लोग किसी को ठग नहीं सकें।

बता दें कि अखाड़ा परिषद इससे पहले दो और लिस्ट जारी कर कई बाबाओं में फर्जी घोषित कर चुका है। ऐसी ही सूची में अखिल भारत हिंदू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि महाराज और श्री कल्कि फाउंडेशन के संस्थापक और कांग्रेस के सदस्य आचार्य प्रमोद कृष्णम को फर्जी बाबा बताया गया था। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने कहा कि दोनों बाबा किसी संन्यासी परंपरा से नहीं आते। इस बैठक में कुम्भ को लेकर भी प्रस्ताव पास किए गए।

इससे पहले पिछले साल सितम्बर में भी अखाड़ा परिषद ने फर्जी बाबाओं की पहली सूची जारी की थी। इस लिस्ट में 14 फर्जी बाबाओं के नाम शामिल थे। परिषद ने संत आसाराम, राधे मां, सच्चिदानंद गिरि, गुरमीत राम रहीम, निर्मल बाबा, इच्छाधारी भीमानंद, असीमानंद और नारायण साईं, रामपाल, आचार्य कुशमुनि, वृहस्पति गिरि, मलखान सिंह के नामों को फर्जी बाबाओं की लिस्ट में शामिल किया था। फर्जी बाबाओं की दूसरी सूची में हाल में ही सुर्खियों में आए दिल्ली के वीरेंद्र देव दीक्षित, बस्ती के सच्चिदानंद सरस्वती और इलाहाबाद की महिला संत और परी अखाड़े की स्वयंभू महामंडलेश्वर त्रिकाल भवंता के नाम शामिल थे। इसके साथ ही राजस्थान अलवर के फलाहारी बाबा को भी अखाड़ा परिषद ने निलम्बित किया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper